in

इराक / ईरान ने बगदाद में अमेरिकी दूतावास पर 2 रॉकेट दागे, ट्रम्प ने कहा- हमारे निशाने पर भी 52 ईरानी ठिकानें

वॉशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शनिवार को चेतावनी दी कि ईरान में 52 ठिकानें अमेरिकी निशाने पर हैं। अगर ईरान किसी भी अमेरिकी व्यक्ति या संपत्ति पर हमला करता है, तो वे तेजी से कार्रवाई करेंगे। शुक्रवार को अमेरिका ने इराक के एयरपोर्ट पर ड्रोन से हमला कर ईरान के जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या कर दी थी। ट्रम्प ने कहा कि जिन जगहों को निशाना बनाया गया है, उनमें से कुछ साइटें ईरान और ईरानी संस्कृति के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं। अमेरिका कोई और खतरा नहीं चाहता है।

सुरक्षा से जुड़े सूत्रों ने न्यूज एजेंसी को बताया कि ईरान समर्थक गुटों ने इराक में अमेरिकी दूतावास और अल-बालाद एयर बेस पर शनिवार देर रात कई रॉकेट दागे। यहां कई अमेरिकी सैनिक तैनात हैं। इराकी सेना ने मिसाइल हमलों की पुष्टि की और कहा कि कोई हताहत नहीं हुआ है। अमेरिका-ईरान के बीच बढ़े तनाव के कारण मध्य पूर्व में बड़े संघर्ष की आशंका जताई जा रही है।

‘ईरान अमेरिका की कुछ संपत्तियों को निशाना बना सकता है’

राष्ट्रपति ट्रम्प ने ट्वीट किया- ईरान अमेरिका की कुछ संपत्तियों को निशाना बनाने के बारे में बात कर रहा है। मुझे बताने की जरूरत नहीं है कि ईरान के इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स के कमांडर मेजर जनरल कासिम सुलोमानी ने अपने जीवन अपने में कितने लोगों को मारा है। इसमें हाल ही में ईरान में मारे गए प्रदर्शनकारी भी शामिल हैं। सुलोमानी ने बगदाद में अमेरिकी राजदूत पर हमला किया था और अन्य जगहों पर हमला करने की भी योजना बना रहा था।

हम हर कीमत पर अपने लोगों की रक्षा करेंगे: अमेरिका

1979 में ईरानी युवा छात्रों का एक दल जबरदस्ती अमेरिकी दूतावास में घुस गया था और वहां मौजूद सभी 52 अमेरिकियों को बंधक बना लिया था। सभी नागरिक 1981 में रिहा हुए थे। ट्रम्प ने धमकी दी है कि हमलावरों को ढूंढकर खत्म किया जाएगा। जिन्होंने भी अमेरिकी को नुकसान पहुंचाया है या ऐसा करने की साजिश रच रहे हैं, उन्हें खत्म कर देंगे। हम अपने लोगों और राजनयिकों की रक्षा करेंगे।

सही समय पर सुलेमानी की हत्या का बदला लेंगे: ईरान

ईरानी सेना के वरिष्ठ कमांडर ने कहा है कि सुलेमानी की हत्या का बदला लेने के लिए उनका देश सही समय और सही जगह का इंतजार करेगा। हम अमेरिकी कार्रवाई का बदला लेने के लिए जोरदार पलटवार करेंगे। ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अल-खामेनेई ने भी कहा था कि कि वे सुलेमानी की हत्या का बदला लेंगे।

पोम्पियो ने इजराइली प्रधानमंत्री से बात की

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने रविवार को इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू से ‘ईरान के प्रभाव और क्षेत्र में खतरों का मुकाबला करने’ के महत्व पर बात की। पोम्पियो ने ट्वीट किया- इजरायल के पीएम नेतन्याहू और मैंने ईरान की ओर से होने वाले खतरों को लेकर बात की। आतंकवाद से लड़ने में इजरायल के लगातार समर्थन के लिए मैं शुक्रगुजार हूं। इजराइल और अमेरिका के बीच का बंधन अटूट है।

अमेरिका को आत्मरक्षा का अधिकार: नेतन्याहू

बगदाद के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर शुक्रवार को हुए अमेरिकी हवाई हमले का प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने समर्थन किया। नेतन्याहू ने कहा था कि अमेरिका को आत्मरक्षा का अधिकार है।

This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग के सामने सिखों का प्रदर्शन, एसजीपीसी जांच दल पाक भेजेगा

मप्र / ‘इंदौर में आग’ पर कमलनाथ सरकार का कड़ा रुख, कैलाश सहित 350 पर केस