in

Delhi Violence: उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सड़कों से हटाए गए चार लाख किलो ईंट-पत्थर

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सड़कों पर बिखरे ईंट-पत्थर दंगों की भयावहता को बयां कर रहे हैं। ये ऐसा मंजर है जिसे देख किसी के भी रोंगटे खड़े हो जाएं। लेकिन नगर निगम आम जनजीवन फिर से बहाल करने के लिए पूरी शिद्दत से जुट गया है। पूर्वी दिल्ली नगर निगम ने शुक्रवार से सड़कों को साफ-सुथरा बनाने के लिए युद्धस्तर पर काम शुरू कर दिया।

लोगों को लहूलुहान करने वाले ईंट-पत्थरों को निगम शास्त्री पार्क स्थित प्लांट में भेज रहा है, जहां इस मलबे से इंटरलॉकिंग टाइलें और ईंटें बनाई जाती हैं। इन टाइलों का इस्तेमाल फुटपाथ बनाने के लिए किया जाता है। निगम का यह अभियान दिल्ली पुलिस की निगरानी में अभी 24 घंटे चलेगा ताकि सड़कों जल्द से जल्द साफ-सुथरा कर चलने लायक बनाया जा सके।

मलबा उठाने के लिए छोटी बॉब कट मशीनें व कई दर्जन ट्रक लगाए गए

दंगा प्रभावित इलाके मौजपुर, जाफराबाद रोड, नूर-ए-इलाही-यमुना विहार रोड, करावल नगर रोड पर निगम दस्ते ने व्यापक रूप से अभियान की शुरुआत की है और मलबा उठाने के लिए छोटी बॉब कट मशीनें व कई दर्जन ट्रक लगाए गए। निगम के कर्मचारी जहां पुलिस सुरक्षा में अभियान चला रहे थे, वहीं निगम के आला अधिकारी भी निगरानी कर रहे थे।

चार लाख किलो ईंट व पत्थर हटाए गए

शाहदरा उत्तरी जोन के प्रशासनिक अधिकारी शरद चंदन बताते हैं कि शुक्रवार शाम तक करीब चार लाख किलो ईंट व पत्थर हटाए गए हैं। ये काम लगातार जारी है। निगम कर्मचारी पुलिस सुरक्षा में लगातार काम करेंगे। पूर्वी दिल्ली नगर निगम के प्रवक्ता अरुण कुमार कहते हैं कि पूर्वी निगम लगातार सभी महत्वपूर्ण मार्गो को साफ करने जुटा है। जिससे कि आम जनता को कोई तकलीफ न हो।

जाफराबाद रोड, वजीराबाद रोड पूरी तरह से साफ

मुख्य मार्गो के साफ होते ही गोकलपुरी व बृजपुरी में काम किया जा जाएगा। जाफराबाद रोड, वजीराबाद रोड को पूरी तरह से साफ करवा दिया गया है। ब्रह्मपुरी रोड का एक किलोमीटर का हिस्सा बचा है जिसे रात में साफ कर दिया जाएगा।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

मेघालय में CAA और इनर लाइन परमिट पर बवाल में एक की मौत, इंटरनेट बंद-कर्फ्यू लगाया गया

MP: नगरीय चुनावों को लेकर कैबिनेट मंत्री जयवर्धन का बड़ा बयान, पार्टी सिंबल से होंगे चुनाव