in

फ्लोर टेस्ट से पहले अजीत का इस्तीफा, फडणवीस के इस्तीफे की भी चर्चा

महाराष्ट्र की राजनीति में एक बार फिर से बड़ा टर्न आ गया है। समाचार चैनलों के मुताबिक, महाराष्ट्र में फ्लोर टेस्ट से पहले ही उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने डिप्टी सीएम के पद से इस्तीफा दे दिया है। इसके बाद अब मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के इस्तीफे के भी कयास लगाए जाने लगे हैं। उम्मीद की जा रही है कि अजीत पवार के बाद अब देवेंद्र फडणवीस भी जल्द ही मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे सकते हैं। अजीत पवार का इस्तीफा भाजपा के लिए बड़ा झटका है।

देवेंद्र फडणवीस दोपहर साढ़े तीन बजे मीडिया से वार्ता करने वाले हैं। माना जा रहा है कि प्रेसवार्ता के दौरान वह अपने इस्तीफे की घोषणा करेंगे। साथ ही वह अगली रणनीति के बारे में भी मीडिया को जानकारी देंगे। मालूम हो कि अजीत पवार के इस्तीफे से थोड़ी देर पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने महाराष्ट्र को लेकर एक अहम बैठक की थी।

मालूम हो कि सुप्रीम कोर्ट ने आज ही एनसीपी-शिवसेना-कांग्रेस की याचिका पर सुनवाई करते हुए फ्लोर टेस्ट का आदेश दिया था। एनसीपी-शिवसेना-कांग्रेस गठबंधन वाले महाविकास अघाड़ी के नेता शुरू से दावा कर रहे थे कि भाजपा के पास राज्य में सरकार बनाने के लिए जरूरी बहुमत का आंकड़ा नहीं है। इसके खिलाफ अपने दावे को मजबूद करने के लिए गठबंधन की तरफ से मंगलवार शाम को मुंबई के होटल हयात में मीडिया के सामने विधायकों की परेड कराई गई थी।

महाराष्ट्र में एक महीने से ज्यादा लंबे समय से चला आ रहा राजनीतिक ड्रामा शनिवार को चरम पर पहुंच गया था।राज्य में अचानक से राष्ट्रपति शासन हटाकर सुबह आठ बजे ही राज्यपाल ने भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री और एनसीपी के अजीत पवार को उपमुख्यमंत्री पद की शपथ दिला दी थी। महाविकास अघाड़ी की तरफ से राज्यपाल के इस फैसले और महाराष्ट्र की नई सरकार को सुप्रीम कोर्ट में  चुनौती देते हुए जल्द से जल्द फ्लोर टेस्ट कराने की मांग की गई थी।

एनसीपी-शिवसेना-कांग्रेस द्वारा मंगलवार शाम कराई गई विधायकों की परेड में दावा किया गया था कि उनके पास 162 से ज्यादा विधायकों का समर्थन हैं। इस दौरान एनसीपी के वो विधायक भी होटल में नजर आए, जो शनिवार सुबह शपथ ग्रहण के दौरान राजभवन में दिखे थे। इन विधायकों ने मीडिया के सामने ये कहकर सबको चौंका दिया था कि उन्हें शपथ ग्रहण के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। उस वक्त अजीत पवार विधायक दल के नेता थे उन्होंने फोन कर बुलाया तो वह अपने नेता के निर्देशों का पालन करते हुए राजभवन पहुंच गए थे। राजभवन में वह लोग खुद भी देवेंद्र फडणवीस और अजीत पवार को शपथ लेते देखकर बहुत हैरान हुए थे। इतना ही नहीं इन विधायकों ने मीडिया के सामने ये भी कहा कि उनसे गलती हो गई थी। वह अब ये गलती नहीं दोहराएंगे। वह लोग शरद पवार के साथ हैं और वही उनके नेता हैं।

इसके बाद देवेंद्र फडणवीस और अजीत पवार के लिए बुधवार को विधानसभा में बहुमत साबित करना लगभग असंभव हो गया था। इसके बाद से ही कयास लगाए जाने लगे थे कि कर्नाटक की तरह यहां भी भाजपा के मुख्यमंत्री फ्लोर टेस्ट से पहले ही इस्तीफा दे सकते हैं। हालांकि, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने अभी इस्तीफा नहीं दिया है, लेकिन उपमुख्यमंत्री अजीत पवार के इस्तीफा देने के बाद उनका गेम ओवर माना जा रहा है।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

केंद्र शासित जम्मू-कश्मीर में आज पहली बार मनाया जा रहा संविधान दिवस

देवेंद्र फडणवीस थोड़ी देर में करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंस, कर सकते हैं बड़ा ऐलान