in

मोदी ने मध्यप्रदेश के 1.75 लाख परिवारों को गृह प्रवेश करवाया

  • कहा- कोरोना के बावजूद आधे समय में घर बना दिए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मध्य प्रदेश में प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत बने 1.75 लाख घरों का उद्घाटन किया। इस योजना के तहत घर पाने वाले तीन लोगों से मोदी ने बात भी की। इनमें धार जिले के सरदारपुर गांव के गुलाब सिंह, सिंगरौली जिले के प्यारेलाल यादव और ग्वालियर जिले के नरेंद्र नामदेव शामिल हैं।

मोदी ने कहा, “प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत एक घर बनाने में औसतन 125 दिन लगते हैं, लेकिन कोरोना के समय में इस योजना के तहत घरों को सिर्फ 45 से 60 दिन में ही बनाकर तैयार कर दिया गया। आपदा को अवसर में बदलने का ये सबसे अच्छा उदाहरण है। कोरोना काल में तमाम रुकावटों के बीच देशभर में 18 लाख घरों का काम पूरा किया गया।”

प्रधानमंत्री ने घर पाने वाले लोगों से कहा, “इस बार आप सभी की दीवाली और दूसरे त्योहारों की खुशियां कुछ और ही होंगी। कोरोनाकाल नहीं होता तो आज आपके जीवन की इतनी बड़ी खुशी में शामिल होने के लिए आपके घर का एक सदस्य, आपका प्रधान सेवक आपके बीच होता। आज का कार्यक्रम मध्य प्रदेश समेत देश के सभी बेघर साथियों को एक विश्वास देने वाला पल है। जिनका अब तक घर नहीं, एक दिन उनका भी घर बनेगा, उनका भी सपना पूरा होगा।”

इस योजना के तहत 12 हजार गांवों में घर तैयार किए गए हैं। प्रधानमंत्री ने 2022 तक सभी परिवारों को उनका अपना घर होने का लक्ष्य रखा है। सरकार को उम्मीद है कि मार्च 2022 तक 2 करोड़ घर बनकर तैयार हो जाएंगे।

प्रधानमंत्री का 70वां जन्मदिन सेवा सप्ताह के तौर पर मनाया जाएगाभाजपा 17 सितंबर को मोदी के 70वें जन्मदिन को सेवा सप्ताह के रूप में मनाएगी। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कहा कि कांग्रेस ने गरीबों की योजनाएं बंद कर दीं और उनके लिए मंजूर 2 लाख 43 हजार घर लौटाकर गरीबों के सिर से छत छीन ली थी। अब उन्हें पक्के घर का सुख मिलेगा।

This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

रिया ने बिना पंखे के चटाई पर जेल में रात बिताई

रास्ता भटके लोगों से कैसा हो सलूक? भारत ने बचाई जिंदगी, चीन ने छीनना चाहा सम्मान.