in

रौब झाड़ने के लिए कंधे पर बंदूक टांगते हैं लेकिन बिजली बिल नहीं भरते उनके लाइसेंस निरस्त होंगे

  • बिजली विभाग ने बिल बकाएदारों के बंदूक लायसेंस निलंबित करने के लिए कलेक्टर को भेजी 106 की सूची.
  • रसूखदारों को लगेगा करंट, एक करोड़ से अधिक बकाया बिल वसूलने के लिए लाइसेंस निलंबन का प्रस्ताव.

समाज में अपना दबदबा कायम रखने व आसपास के इलाके में रौब झाड़ने के लिए चेहरे पर बड़ी-बड़ी मूंछे व कांधे पर लाइसेंसी बंदूक लेकर घूमने वाले रसूखदारों को अब बिजली कंपनी करंट का झटका देने की तैयारी में है। मध्यक्षेत्र विधुत वितरण कंपनी मुरैना के महाप्रबंधक शिशिर गुप्ता ने कलेक्टर से इन बकायादारों के शस्त्र लाइसेंस तत्काल निलंबित करने का अनुरोध किया है। बिजली कंपनी ने जिलेभर के सभी 26 थानों से लाइसेंसी शस्त्रधारकों की सूची मंगाई थी।

जानकारी के मुताबिक, विद्युत विभाग ने जिले के 112 शस्त्र लायसेंस धारियों की पहली सूची कलेक्टर प्रियंका दास को भेजी है जिन पर बिजली बिल का करीब 104 करोड़ रुपया बकाया है। विभाग ने उन सभी को बकाया बिल जमा करने के लिये कई बार नोटिस भी दिए पर उन्होंने अभी तक बिल की बकाया राशि जमा नहीं की है। मध्यप्रदेश मध्यक्षेत्र विधुत वितरण कंपनी मुरैना के महाप्रबंधक शिशिर गुप्ता ने कलेक्टर से इन बकायादारों के शस्त्र लाइसेंस तत्काल निलंबित करने का अनुरोध किया है।

कलेक्टर को भेजी गई सूची चंबल संभाग के मुरैना जिले में 27 हजार 500 शस्त्र लायसेंस धारी है। विजली विभाग बिजली के बकायेदार शस्त्र लायसेंस धारियों की दूसरी सूची भी संबंधित थाना क्षेत्रों से प्राप्त करने की कार्रवाई में जुटा है। गुप्ता के अनुसार 112 शस्त्र लाइसेंस धारियों में 31 ऐसे हैं जिन पर 1 से 9 लाख रुपये तक बिजली के बिलों की राशि बकाया है। 

जिले में 634 करोड़ रुपए बिजली बिल बकाया उन्होंने बताया कि मुरैना जिले में विधुत उपभोक्ताओं पर करीब 634 करोड़ रुपये की बिलों की राशि बकाया है। इन सभी की सूची तैयार कर बिजली कंपनी के महाप्रबंधक ने कलेक्टर प्रियंका दास को भेजकर इनके शस्त्र लाइसेंस निलंबित करने के लिए भेजी है। जिलेभर में रहने वाले 31 शस्त्रधारक ऐसे हैं, जिनके बिजली बिल के रूप में एक लाख रुपए से अधिक व 9 लाख रुपए तक की राशि बकाया है। 

आन-बान-शान का प्रतीक है बंदूक बिजली कंपनी का मानना है कि चंबल संभाग में कंधे पर बंदूक टांगना स्टेटस सिबंल माना जाता है। लोगों को यहां लाइसेंसी हथियार से इतना लगाव है कि अगर उनके लाइसेंस निरस्त होने की प्रक्रिया शुरू होगी तो वे अपने हथियारों की खातिर यह राशि जमा कर देंगे।

इन शस्त्रधारकों पर बिजली कंपनी का 1 लाख से 9 लाख तक बिल बकाया

  1. दिनेश पुत्र रामरतन शर्मा, देवलाल का पुरा (1 लाख 9 हजार)
  2. मनीराम पुत्र फेरन सिंह निवासी सिरमिती (1 लाख 26 हजार)
  3. मुन्नालाल शुक्ला पुत्र बीधाराम, सिरमिती (1 लाख 58 हजार)
  4. राजवीर परमार पुत्र केदार, चेंटा (1 नलाख 57 हजार)
  5. भूपेंद्र पुत्र नारायण सिंह, माता बसैया (1.17 लाख)
  6. शत्रुघन गुर्जर पुत्र पुरुषोत्तम, हरिगंवा (1.28 लाख)
  7. विद्याराम पुत्र महादेव किरार, जींगनी (1.84 लाख)
  8. मुकेश सिंह पुत्र रामपाल, गलेथा (1.22 लाख)
  9. दुलारे पुत्र श्रीलाल, धनेला (1.10 लाख)
  10. लज्जाराम पुत्र तेज सिंह, धनेला (1.61 लाख)
  11. पातीराम पुत्र ओछेसिंह, जयनगर चौखूटी (1.63 लाख)
  12. देवेंद्र पुत्र सालिगराम, सिहोरा (1.73 लाख)
  13. तखतसिंह पुत्र गंभीर, बरेंडा (1.44 लाख)
  14. हाकिम पुत्र भगवान सिंह, शेरपुर (1.36 लाख)
  15. भोगीराम पुत्र विक्रम सिंह, शेरपुर (1.14 लाख)
  16. अमरसिंह पुत्र देलाल, उदयभान का पुरा (2.15 लाख)
  17. उलफत सिंह, ग्राम सांठो (8.64 लाख)
  18. महावीर पुत्र रामकरन शुक्ला, सांठो (3.17 लाख)
  19. शिवसिंह पुत्र महिपाल, सांठो (1.96 लाख)
  20. बाबू पुत्र जालिम सिंह, भजपुरा (5.96 लाख)
  21. जयपाल सिंह तोमर, तरसमा (1.16 लाख)
  22. बनवारी तोमर, भजपुरा (9.52 लाख)
  23. रतनलाल पुत्र विस्सू, सुसानी (2.44 लाख)
  24. गंभीर पुत्र बलवंत, महचंद का पुरा (1.5 लाख)
  25. कृष्णा पुत्र कुंजमन गुर्जर, नायकपुरा (3.18 लाख)
  26. लायक पुत्र बद्री गुर्जर, तिलौंदा (1.26 लाख)
  27. मुन्नालाल पुत्र आशाराम गुर्जर, बाबरखेड़ा (1.38 लाख)
  28. प्रयागसिंह पुत्र नारसिंह, नायकपुरा (3.18 लाख)

This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

बिजनेसपर्सन ऑफ द ईयर लिस्ट में सत्या नडेला टॉप पर, भारतीय मूल के 2 अन्य सीईओ भी शामिल

Aadhaar में आज से बड़ा बदलाव, UIDAI ने नाम-DoB और जेंडर के लिए बनाया नया नियम