in

मध्यप्रदेश में मेडिकल कॉलेजों के 1,000 प्रोफेसरों ने इस्तीफा दिया

प्रमोशन नीति सहित अपनी विभिन्न मांगों के लिए राज्य सरकार पर दबाब बनाने के लिए मध्यप्रदेश के छह सरकारी मेडिकल कॉलेजों में पढ़ाने वाले करीब 1,000 प्रोफेसरों ने पिछले 48 घंटों में सामूहिक रूप से इस्तीफा दे दिया है।

इस्तीफा देने वाले मेडिकल प्रोफेसरों ने चेतावनी दी है कि यदि आठ जनवरी तक उनकी मांगे नहीं मानी गई तो वे नौ जनवरी से ड्यूटी पर नहीं आएंगे। सेंट्रल मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन की मध्यप्रदेश इकाई के सचिव डॉ. राकेश मालवीय ने गुरुवार को बताया कि प्रदेश के बाकी सात अन्य मेडिकल कॉलेजों के 2,300 प्रोफेसर भी शुक्रवार तक अपना इस्तीफा सौंप सकते हैं। उन्होंने कहा, हम चाहते हैं कि राज्य सरकार हमारे लिए स्पष्ट प्रमोशन नीति लेकर आए और 7वें वेतन आयोग में हमारे वेतन एवं पर्क्स में जो विसंगतियां हैं, उन्हें दूर करे।

मेडिकल प्रोफेसरों के इस कदम से नौ जनवरी से मध्यप्रदेश में स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित हो सकती है, क्योंकि ये प्रोफेसर इन 13 मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस, एमडी और एमएस कोर्स कर रहे छात्रों को पढ़ाने के साथ-साथ इनसे जुड़े अस्पतालों में मरीजों को देखते भी हैं। भोपाल स्थित गांधी मेडिकल कॉलेज से जुड़े सरकारी हमादिया अस्पताल में ही रोजाना करीब 3,500 मरीज उपचार के लिए आते हैं। इस संबंध में मध्यप्रदेश की चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ कई कोशिशों के बावजूद संपर्क नहीं हो सका। 

Report

What do you think?

Written by Bhanu Pratap

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

देश को बांटने की भयावह योजना है NRC, इस बार का NPR पहले से बिल्कुल अलग: चिदंबरम

कोर्ट का डेथ वॉरंट- चारों दुष्कर्मियों को तिहाड़ में 22 जनवरी की सुबह 7 बजे मौत होने तक फांसी पर लटकाया जाए