in ,

राष्ट्रीय पार्टियों की कुल कमाई में 65% हिस्सा अकेले भाजपा का, डेडलाइन के 76 दिन बाद भी राकांपा ने नहीं सौंपी रिपोर्ट

  • 6 राष्ट्रीय पार्टियों की वित्त वर्ष 2018-19 में कुल कमाई 3698.66 करोड़ रही, 83.5% कमाई लोगों और संस्थानों से मिले चंदे से हुई
  • 2017-18 के मुकाबले भाजपा की कमाई ढाई गुना हुई, कांग्रेस ने भी 5 गुना ज्यादा कमाई की; तृणमूल की आय में सबसे ज्यादा 38 गुना इजाफा

लोकसभा चुनाव से पहले खत्म हुए वित्त वर्ष 2018-19 में 7 में से 6 राष्ट्रीय पार्टियों की कुल कमाई में भाजपा का हिस्सा 65% रहा। भाजपा की कुल कमाई 2410 करोड़ रुपए रही। 2017-18 के मुकाबले इसमें ढाई गुना इजाफा हुआ। कांग्रेस की कमाई में भी पिछले साल के मुकाबले इस साल 5 गुना इजाफा हुआ, लेकिन इसके बावजूद यह भाजपा से आधी कमाई भी नहीं कर पाई।सबसे कम हिस्सा सीपीआई का रहा। पार्टी की कमाई महज 7.15 करोड़ (0.19%) रही।

76 दिनबाद भी राकांपा ने नहीं सौंपी ऑडिट रिपोर्ट

राष्ट्रीय पार्टियों को हर सालचुनाव आयोग को अपनी ऑडिट रिपोर्ट देनी होती है। 2018-19 के लिएरिपोर्ट पेश करने की आखिरी तारीख 31 अक्टूबर 2019 तक थी। सिर्फ 3 राष्ट्रीय दलों (तृणमूल कांग्रेस, माकपा और बसपा) ने ही अपनी ऑडिट रिपोर्ट तय समय सीमा के भीतर जमा की। अन्य तीन दलों में भाजपा ने 24 दिन बाद और कांग्रेस और भाकपा ने 42 दिनों बाद ऑडिट रिपोर्ट सौंपी। राकांपा ने 76 दिनों बाद भी अब तक अपनी ऑडिट रिपोर्ट नहीं दी है।

तृणमूल कांग्रेस की कमाई में सबसे ज्यादा इजाफा, माकपा की कमाई घटी

राष्ट्रीय पार्टी2018-19 में कमाई2017-18 में कमाईकमाईकितनी बढ़ी?
भाजपा24101027134%
कांग्रेस918199361%
तृणमूल कांग्रेस19253628%
माकपा100104-3.8%
बसपा695135%
भाकपा71.5361%
राकांपा8

(नोट-आंकड़े करोड़ रुपए में)

राष्ट्रीय पार्टियों की सबसे ज्यादा कमाई चंदे से हुई

राष्ट्रीय पार्टियों की कुल कमाई 3698.66 करोड़ थी। इसमें से 3088 करोड़ (83.5%) कमाई लोगों और संस्थानों से मिले चंदे से हुई। इनमें से 1931 करोड़ की कमाई इलेक्टोरल बॉन्ड से मिले चंदे से हुई। भाजपा की 97% आय (2354 करोड़) चंदे से हुई। इसमें से 1450 करोड़ इलेक्टोरल बॉन्ड से मिले। वहीं, कांग्रेस की 60% (551 करोड़) कमाई चंदे से हुई, इसमें से 383 करोड़ रुपए उसे इलेक्टोरल बॉन्ड से मिले।

राष्ट्रीय पार्टीआय का प्रमुख स्त्रोतआय का कितना हिस्सा?
भाजपालोगों से मिला चंदा और योगदान2354 (97.67%)
कांग्रेसलोगों से मिला चंदा और योगदान551 (60%)
तृणमुल कांग्रेसलोगों से मिला चंदा और योगदान141 (73%)
माकपाफीस और सबस्क्रिप्शन40 (39%)
बसपाबैंक से मिला ब्याज39 (56%)
भाकपालोगों से मिला चंदा और योगदान4 (57%)

(नोट-आंकड़े करोड़ रुपए में)

खर्च : 6 राष्ट्रीय पार्टियों के कुल खर्च का 62% हिस्सा भाजपा का
6 राष्ट्रीय दलों का कुल खर्च 1617 करोड़ रहा। इसमें भाजपा का हिस्सा 62% यानी 1005 करोड़ रुपए रहा। यह उसकी कमाई (2410 करोड़)का 41.17% था। पार्टी ने चुनाव और सामान्य प्रचार में 792 करोड़ और प्रशासनिक लागत में 178 करोड़ खर्च किए। वहीं, कांग्रेस का कुल खर्च 470 करोड़ रहा। इसमें चुनावी खर्च 309 करोड़ और अन्य खर्च 126 करोड़ रहा।

राष्ट्रीय पार्टीखर्च की गई राशि (कुलकमाई का प्रतिशत)
भाजपा1005 (41.71%)
कांग्रेस470 (51.19%)
तृणमुल कांग्रेस11.50 (6%)
माकपा76 (75.43%)
बसपा49 (70%)
भाकपा5.8 (81%)

(नोट-आंकड़े करोड़ रुपए में)

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

अमेजन सफल नहीं होती तो किसी कंपनी में सॉफ्टवेयर प्रोग्रामर बन जाता: जेफ बेजोस

2 साल बाद टेनिस कोर्ट पर लौटीं सानिया का फॉर्म बरकरार, डबल्स के सेमीफाइनल में पहुंचीं