in ,

हिंदुजा बंधुओं में एक लेटर ने छेड़ दी संपत्ति की जंग, ब्रिटिश हाईकोर्ट पहुंचा मामला

हिंदुजा ग्रुप के मालिक हिंदुजा भाइयों (Hinduja Brothers) के बीच इन दिनों एक चिट्ठी को लेकर तनातनी चल रही है. इस लेटर ने हिंदुजा परिवार (Hinduja Family) की 11.2 अरब डॉलर (करीब 83 हजार करोड़ रुपये) की संपत्ति को लेकर कानूनी विवाद खड़ा हो गया है.

साल 2014 में लिखे गए इस लेटर में चारों भाइयों के सिग्नेचर हैं. ये लेटर कहता है कि एक भाई के पास जो भी दौलत है, वह सभी की है. लेकिन 84 साल के श्रीचंद हिंदुजा और उनकी बेटी वीनू ने आपत्ति करते हुए कोर्ट से इसे निरस्त करने की मांग की है.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, लेटर का मामला मंगलवार को लंदन की एक कोर्ट में सुनवाई के बाद सामने आया है. इसमें जज ने कहा कि बाकी के तीन भाई गोपीचंद, प्रकाश और अशोक ने लेटर का इस्तेमाल हिंदुजा बैंक पर अपना कंट्रोल हासिल करने के लिए किया, जबकि उस पर श्रीचंद हिंदुजा का पूरा हक है.

ब्रिटिश हाईकोर्ट में जज ने कहा कि श्रीचंद और वीनू चाहते हैं कि कोर्ट ये फैसला सुनाए कि उस लेटर का कोई लीगल असर नहीं होगा. ऐसे में इस लेटर को वसीयत की तरह इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि श्रीचंद ने 2016 की शुरुआत में जोर देकर कहा था कि जुलाई का पत्र उनकी इच्छाओं को नहीं दर्शाता है और परिवार की संपत्ति को अलग किया जाना चाहिए.

मामले की सुनवाई कर रहे जस्टिस फाल्क ने इसकी पुष्टि की, कि वीनू को श्रीचंद का लिटिगेशन फ्रेंड नियुक्त किया गया है और उम्र संबंधी दिक्कतों की वजह से श्रीचंद कार्यवाही में शामिल नहीं हो सकते.

लेकिन तीनों भाइयों का तर्क था कि वीनू का अपना अलग वित्तीय हित है और श्रीचंद की तरफ से इस मामले के लिए अलग वकील नियुक्त होना चाहिए. तीनों भाइयों का यह भी कहना है कि इस मुकदमे से उनके कारोबार पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

ऐसे संभालते हैं कारोबार

हिंदुजा ग्रुप में चार भाई हैं. इनमें लंदन निवासी श्रीचंद हिंदुजा और गोपीचंद हिंदुजा दुनियाभर में हिंदुजा ग्रुप के तहत तेल व गैस, बैंकिंग, आईटी व प्रॉपर्टी का कारोबार करते हैं. तीसरे भाई प्रकाश हिंदुजा स्विट्जरलैंड के जेनेवा में फाइनेंस का कारोबार संभालते हैं. चौथे भाई अशोक हिंदुजा भारत में ग्रुप के कारोबार की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं.

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

दिल्ली में पेट्रोल से महंगा हुआ डीजल, तेल कंपनियों ने लगातार 18वें दिन बढ़ाए दाम

अंतिम वर्ष के छात्रों को नहीं देनी होगी परीक्षा, पिछले सेमेस्टर के आधर पर रिजल्ट की तैयारी