in ,

खरगोन के नाबालिग को बहलाकर इंदौर ले आया झूलेवाला, पत्नी ने नाम बदलकर दी भीख मांगने की ट्रेनिंग, भीख कम मिलने पर पीटते थे

खरगोन से एक 10 साल के मासूम बच्चे को अच्छी परवरिश का झांसा देकर एक दंपत्ति इंदौर ले आया। इंदौर लाने के बाद पति-पत्नी द्वारा बच्चे के साथ मारपीट कर उससे भीख मंगवाई जाने लगी। सड़क पर भीख मांग रहे बच्चे की जब पुलिस ने काउंसलिंग की तो मामला सामने आया। पुलिस ने आरोपी पति-पत्नी पर मानव तस्करी का केस दर्ज किया है।


सीएसपी एसकेएस तोमर ने बताया कि डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र के निर्देश पर भीख मांगने वाले बच्चों को लेकर एक विशेष अभियान चलाया जा रहा है। पुलिस को एक बच्चा सड़क पर भीख मांगता दिखा। पुलिस की टीम ने जब उसकी काउंसलिंग की तो पता चला कि वह खरगोन का रहने वाला है। एक दंपत्ति उसे अच्छी परवरिश का झांसा देकर इंदौर ले आए और उससे भीख मंगवाने लगे। बच्चे ने बताया कि वह खरगोन में अपने पिता के साथ रहता था। उसके पिता शराब ज्यादा पीते थे।

मार्च माह में उसके गांव में मेला लगा था जिसमें वह गया था। मेले में उसे झूला लगाने वाला भूरा और उसकी पत्नी मुस्कान मिले। दोनों ने उसकी अच्छी परवरिश करने की बात कही और बहला-फुसलाकर अपने साथ इंदौर ले आए। इंदौर लाने के बाद कुछ दिनों तो आरोपियों ने बच्चे को ठीक रखा लेकिन बाद में उसके साथ मारपीट करने लगे और उससे भीख मंगवाने लगे। बच्चे ने बताया कि वह जो भी भीख मांगकर लाता था वह भूरा उससे छीन लेता था। उसे एक समय ही खाने को दिया जाता था साथ ही कम भीख मिलने पर मारा भी जाता था। 


मामले में पुलिस का कहना है कि बच्चे के पिता से खरगोन में संपर्क किया जा रहा है। यदि वह बच्चे को रखने में सक्षम होगा तो ठीक वरना बच्चे को चाइल्ड लाइन के माध्यम से रखने की व्यवस्था की जाएगी। आरोपी पति-पत्नी पर तिलक नगर पुलिस द्वारा केस दर्ज किया गया है।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पूछा- बकाया किसानों का कर्ज कब तक करेंगे माफ

5000 हजार के पार हुई इंदौर में कोरोना संक्रमितों की संख्या, रात में आई रिपोर्ट में 9 नए क्षेत्रों में पहुंचा वायरस