in

CAA के विरोध के बीच बीजेपी विधायक का ऐलान, शरणार्थियों को गांव में बसाएंगे, 5 बीघे में बनाएंगे टू-रूम फ्लैट

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में साल 2013 की सांप्रदायिक हिंसा का उपकेंद्र रहा कवाल गांव एक बार फिर सुर्खियों में है। दरअसल यहां के विधायक विक्रम सैनी ने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन को काउंटर करने के लिए 25 पाकिस्तानी शरणार्थी परिवारों को गांव में बसाने की पेशकश की है। अपने दो मंजिला घर के आंगन में बैठे खतौली से विधायक सैनी ने कहा, ‘मैं राष्ट्र हित में ऐसा करना चाहता है। 25 परिवारों में से सात परिवार ऐसे हैं जो पहले से ही मुजफ्फरनगर में रह रहे हैं। मैं पांच बीघा जमीन चाहता हूं जहां इन परिवारों को बसाया जा सके। अगर ऐसी जमीन नहीं मिल रही तो मैं खुद अपनी जमीन दान कर दूंगा।

उसमें हम शौचालय के साथ टू-रूप का फ्लैट बनाने की योजना बना रहे हैं।’ सैनी साल 2013 के दंगों के दौरान हत्या की कोशिश के मामले का भी सामना कर रहे हैं।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

पाकिस्तान में निचली अदालत ने नाबालिग ईसाई लड़की के साथ शादी को सही ठहराया, कहा- मासिक धर्म तो शुरू हो गया था

क्या है अरविंद केजरीवाल की Exit Poll वाली जीत में छिपा राजनीतिक संदेश?