in ,

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी बोले देश को राहत पैकेज की जरूरत थी

लेकिन सरकार ने लोन मेला लगा दिया

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी ने शनिवार को एक टीवी कार्यक्रम के दौरान कहा है कि भारत को राहत पैकेज की जरूरत थी। लेकिन सरकार ने लोन मेला लगा दिया है। मनीष तिवारी का कहना है कि कोरोना वायरस महामारी के संकट के समय लोन मेला की जरूरत नहीं थी। उन्होंने सवाल किया कि क्यों मजदूर रेल के आगे कट रहे हैं। क्यों मजदूरों की रोड पर मौत हो रही है। क्या मजदूरों को सुरक्षित घर नहीं पहुंचाया जा सकता है। सरकार को प्रवासी मजदूरों के बारे में सोचना चाहिए।

किसी से जवाब मांगना सियासत नहीं होता

मीडिया रिपोर्ट्स के मतुाबकि, मनीष तिवारी ने यह भी कहा कि मैं जयंत सिन्हा को याद दिलाना चाहता हूं। यदि किसी से जवाब मांगा जाता है तो यह सियात नहीं होता है। देश में कोरोना वायरस की वजह से लागू लॉकडाउन के बीच लाखों प्रवासी मजदूर पलायान कर रहे हैं। भारत के बंटवाले के बाद सबसे बड़ी मानवीय आपदा है। तिवारी ने आगे कहा कि 25 मार्च से देश में लॉकडाउन जारी है। 16 मई तक बसों का इंतजाम नहीं कराया गया है। वित्त मंत्री कहती हैं कि श्रमिक ट्रेन ने 10 लाख लोगों को पहुंचाया है।

तिवारी ने कहा कि 11 करोड़ मजदूर हैं। फिर तीन करोड़ 90 लाख सड़कों पर धक्के क्यों खा रहे हैं। वहीं, भाजपना नेता जयंत सिन्हा ने कहा कि मैं इंसानियत के तौर पर भीख मांग रहा हूं। जो रोड प्रवासी मजदूर पैदल चल रहा हैं उन्हें घर पहुंचाएं। राज्यों को इसमें केंद्र सरकार का सहयोग करना चाहिए। तिवारी के सवाल पर भाजपा ने कहा कि हमारी सरकार ने करोड़ों लोगों को जान बचाई इसलिए हम दोषी हैं।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

औरैया में दो ट्रकों के बीच टक्कर में 24 मजदूरों की मौत

छतरपुर मार्ग पर मजदूरों से भरा ट्रक पलटा, 6 की मौत, 18 मजदूर घायल