in

दाऊद इब्राहिम तीन साल से फोन पर किसी से बात नहीं कर रहा, पाकिस्तान में छिपे होने के पक्के सबूत: दिल्ली पुलिस

  • दिल्ली पुलिस ने आखिरी बार दाउद इब्राहिम का कॉल नवंबर 2016 में रिकॉर्ड किया था.
  • मुंबई के उद्योगपतियों को धमकाकर वसूली करने के लिए फोन कॉल्स में कमी आई.
  • सूत्रों के मुताबिक, एनएसए अजीत डोभाल ने मध्य-पूर्व और यूरोप में डी-कंपनी पर शिकंजा कसा.

मोस्ट वॉन्टेड आतंकी दाउद इब्राहिम तीन साल किसी से फोन पर बात नहीं कर रहा है। वह अपनी सुरक्षा को लेकर काफी चौकन्ना है। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि दाऊद साथियों के साथ पाकिस्तान में छिपा हुआ है। इसके पक्के सबूत मिले हैं। दिल्ली पुलिस ने उसका पिछला कॉल नवंबर 2016 में रिकॉर्ड किया था। दाऊद 1993 में हुए बम धमाकों के बाद मुंबई छोड़कर भागा था।

दाऊद ने कराची से अपना अड्डा नहीं बदला

  1. जांच एजेंसियों की मदद से तीन साल पहले करीब 15 मिनट की रिकॉर्डिंग हुई थी। दाऊद कराची के अपने फोन नंबर से दुबई स्थित सहयोगियों से बातचीत कर रहा था। तब कहा गया था कि वह दिल की बीमारी से पीड़ित है और कराची के अस्पताल में भर्ती है। लेकिन उसके भाई अनीस इब्राहिम ने इससे साफ इनकार किया था।
  2. दिल्ली पुलिस के अधिकारी ने बताया, ‘‘शायद वह फोन का इस्तेमाल करने से बच रहा है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि दाऊद ने कराची से अपना अड्डा बदल लिया है। हमारे पास यह साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं कि दाऊद और उसके गिरोह के करीबी सदस्य अभी तक पाकिस्तान से साजिश को अंजाम दे रहे हैं।’’
  3. डोभाल ने मध्य-पूर्व और यूरोप में डी-कंपनी पर शिकंजा कसा: सूत्रसूत्रों के मुताबिक, मध्य-पूर्व और यूरोप में डी-कंपनी पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल ने सक्रियता दिखाई है। इसके बाद दाऊद और उसका भाई अनीस सेलफोन का इस्तेमाल करने से बच रहे हैं। दाऊद का करीबी छोटा शकील भी सावधानी बरत रहा है। मुंबई के प्रभावशाली उद्योगपतियों को धमकाकर वसूली करने के लिए फोन कॉल्स में भी कमी आई है।
  4. पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘‘बातचीत के दौरान (2016 में) लगा कि उसने शराब पी रखी थी, क्योंकि उसकी आवाज थोड़ी लड़खड़ा रही थी। कुल मिलाकर बातचीत निजी थी और अंडरवर्ल्ड की किसी गतिविधि या साजिश का जिक्र नहीं हुआ था।’’ उन्होंने बताया कि बाद में इस मसले को लेकर उच्चस्तरीय बातचीत हुई थी। इसमें इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) और रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) के शीर्ष अधिकारी शामिल थे।
  5. रॉ ने दाऊद की फोन कॉलिंग की रिकॉर्डिंग कई बार की है। तत्कालीन दिल्ली पुलिस कमिश्नर नीरज कुमार द्वारा जून 2013 में रिकॉर्ड की गई अंडरवर्ल्ड की सबसे चर्चित बातचीत है। दाऊद की 1994 से पीछा कर रहे नीरज कुमार ने कहा, ‘‘स्पॉट फिक्सिंग मामले की जांच के दौरान हमने दाऊद की आवाज सुनी। इस मामले में आईपीएल के कई क्रिकेटर को आरोपी बनाया गया था।’’
  6. नीरज कुमार ने दाऊद के सहयोगी इकबाल मिर्ची के खिलाफ मामले की भी जांच की थी। कुमार ने कहा, ‘‘मैं दाऊद की बातचीत की 2016 की रिकॉर्डिंग पर टिप्पणी नहीं कर सकता, लेकिन दिल्ली पुलिस दाऊद के साथ-साथ डी-कंपनी के सहयोगियों के कॉल्स में सेंधमारी करने में सक्षम हैं।’’

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

शरद पवार ने किया दावा मोदी ने साथ में मिल के काम करने का दिया था ऑफर

जबलपुर में सिरफिरे ने लड़की को चाकू से 70 बार गोदा, आंतें निकलीं