in ,

दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग के सामने सिखों का प्रदर्शन, एसजीपीसी जांच दल पाक भेजेगा

  • दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी और अकाली दल ने ननकाना साहिब पर हमले में शामिल लोगों की गिरफ्तारी की मांग की
  • विरोध में सिख समुदाय के लोगों ने चाणक्यपुरी इलाके में सड़क पर लोगों को लंगर खिलाया
  • खालिस्तान समर्थक गोपाल चावला मुस्लिम धर्मगुरुओं के साथ सिख समुदाय से बात करने ननकाना साहिब पहुंचा
  • पाकिस्तान स्थित ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर शुक्रवार देर शाम मुस्लिम कट्टरपंथियों की भीड़ ने पथराव कर दिया था

पाकिस्तान में ननकाना साहिब गुरुद्वारा पर शुक्रवार को भीड़ के हमले के खिलाफ शनिवार को सिख समुदाय ने पाक उच्चायोग के बाहर प्रदर्शन किया। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीएमसी) और अकाली दल ने हमले में शामिल लोगों की गिरफ्तारी की मांग की है। वहीं, घटना के विरोध में सिख समुदाय ने चाणक्यपुरी इलाके में सड़क पर लंगर खिलाया। इसबीच, शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) ने मामले की जांच के लिए 4 सदस्यीय दल पाकिस्तान भेजने की बात कही। उधर, खालिस्तान समर्थक गोपाल सिंह चावला की अगुवाई में मुस्लिम धर्मगुरु ननकाना साहिब में सिख समुदाय से मिले।

अकाली दल के प्रवक्ता मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा, ‘‘हम गुरु घर और सिख समुदाय पर हुए इस हमले को बर्दाश्त नहीं करेंगे। इस घटना से साफ हो गया है कि पाकिस्तान मुस्लिम राष्ट्र है, जिसे अल्पसंख्यकों की जान और इज्जत की कोई परवाह नहीं है। ननकाना साहिब पर हुए हमले के वीडियो में मोहम्मद हसन खुलेआम कह रहा है कि गुरुद्वारा साहिब की जगह मस्जिद बनाएगा और यहां से सभी सिखों को भगा दिया जाएगा। इसे किसी कीमत पर नहीं सहा जाएगा। इतनी बड़ी घटना के बाद भी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान चुप्पी साधे हैं। इससे अल्पसंख्यकों के हितों को लेकर उनकी संजीदगी पता चलती है।”

मंत्री ने कहा- सीएए विरोधियों की आंखें खुलनी चाहिए
केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा है कि ननकाना साहिब की घटना के बाद नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का विरोध करने वालों की आंखें खुल जाना चाहिए। इस घटना से साफ होता है कि पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यकों को किस तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। 

एसजीपीसी ने जांच दल भेजने की बात कही

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) ने घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए इसकी जांच के लिए एक प्रतिनिधिमंडल पाकिस्तान भेजने की बात कही। एसजीपीसी ने कहा कि वे सरकार से बात करके पाकिस्तान में सिख समुदाय की सुरक्षा सुनिश्चित करने का आग्रह करेंगे।

मुस्लिम युवक ने ग्रंथी की बेटी को अगवा किया

ननकाना साहिब गुरुद्वारे के ग्रंथी की बेटी जगजीत को मोहम्मद हसन नाम के मुस्लिम युवक ने 5 नवंबर को अगवा कर लिया था। इसके बाद लड़की का धर्म परिवर्तन कराकर उससे निकाह कर लिया। इसके खिलाफ लड़की के पिता ने करतारपुर में धरना देने की चेतावनी दी थी। इसके बाद पुलिस ने लड़की को वापस पिता के पास भिजवा दिया था।

कट्टरपंथियों ने गुरुद्वारे पर हमला किया

इसके बाद उस युवक ने दोबारा लड़की को अगवा कर लिया। विरोध में सिखों ने प्रदर्शन किया, जिसे स्थानीय मुसलमानों ने समुदाय के खिलाफ मान लिया। इसी वजह से गुरुद्वारा साहिब पर पथराव किया गया। पंजाब प्रांत के एक मंत्री ने फोन कर पुलिस को मौके से सिखों को निकालने के लिए कहा, तब जाकर पुलिस वहां पहुंचीं।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

कोटा / जेके लोन अस्पताल में 35 दिन में 107 बच्चों की मौत, सचिन पायलट बोले- यह दिल दहला देने वाली घटना, जिम्मेदारी तय हो

इराक / ईरान ने बगदाद में अमेरिकी दूतावास पर 2 रॉकेट दागे, ट्रम्प ने कहा- हमारे निशाने पर भी 52 ईरानी ठिकानें