in

दिग्विजय और सिंधिया गर्मजोशी से मिले; बंद कमरे में बातचीत नहीं हो सकी, दिग्विजय ने कहा- महाराज से बहुत अच्छे संबंध

  • दोनों नेताओं के बीच बंद कमरे में होने वाली बातचीत को लेकर सियासी पारा चढ़ा हुआ था.
  • इससे पहले दोनों नेता 8 साल पहले गुना में राजीव गांधी कांग्रेस भवन का लोकार्पण करने आए थे.

कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह के बीच अकेले में मुलाकात नहीं हो सकी। समय की कमी के चलते दोनों नेताओं के बीच होने वाली बैठक टाल दी गई है। सोमवार को दोनों नेताओं की मुलाकात सड़क पर हुई। दोनों गर्मजोशी से मिले और एक-दूसरे को फूलमाला पहनाकर स्वागत किया। इस दौरान दिग्विजय के बेटे जयवर्धन सिंह भी मौजूद थे। सिंह गुना से आरोन के लिए रवाना हो गए। वहां से इंदौर जाएंगे। 

दिग्विजय ने कहा कि उनकी सिंधिया से कोई तनातनी नहीं है। उन्होंने सिंधिया को ‘महाराज’ के नाम से संबोधित किया। कहा- ‘महाराज’ से उनके बहुत अच्छे संबंध हैं। दोनों नेताओं के बीच सर्किट हाउस के बंद कमरे में 45 मिनट तक बैठक होना प्रस्तावित थी। सिंधिया और दिग्विजय की बैठक को लेकर प्रदेश में सियासी पारा चढ़ा था। 

सिंधिया समर्थकों ने शहर में लगाए होर्डिंग पोस्टर, दिग्विजय गायब 

बैठक को लेकर तमाम राजनीतिक मायने निकाले जा रहे थे, लेकिन शहर में लगाए गए होर्डिंग और बैनरों ने कांग्रेस में गुटबाजी को हवा दी। जहां सिंधिया समर्थकों ने शहर को होर्डिंग और बैनरों से पाट दिया, लेकिन इसमें दिग्विजय का फोटो नहीं दिखाई दिया। प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री भी कार्यक्रम में शामिल हुए। सिंधिया चुनाव हारने के बाद दूसरी बार गुना आए।

8 साल पहले सिंधिया ने दिग्गी को बताया था पितातुल्य

इस मुलाकात से पहले दोनों नेता 8 साल पहले राजीव गांधी कांग्रेस भवन का लोकार्पण करने आए थे। तब सिंधिया ने कहा था कि वह दिग्विजय के बेटे की तरह हैं। दिग्गी को अपना प्रेरणास्रोत तक कहा था। वहीं, दिग्विजय ने सिंधिया को यूपीए सरकार का सबसे काबिल मंत्री बताया था।

रात को होर्डिंग लगाने में भिड़ गए थे समर्थक

शहर के तेलघानी चौराहे पर देर रात को सिंधिया समर्थक आपस में भिड़ गए। उनमें आपस में खूब लात-घूसे चले। यह तमाशा देख राहगीरों और आसपास के लोग जमा हो गए। देखते ही देखते तेलघानी चौराहे पर जाम की स्थिति बन गई। पुलिस का सायरन बजने के बाद वहां से लोग तितर-बितर हो गए। इसमें एक कार्यकर्ता को गंभीर चोट आई। जबकि 2 अन्य घायल होना बताया जा रहा है। जिस समय यह विवाद हुआ, उस समय गुना विधानसभा से चुनाव हारे कांग्रेस के प्रत्याशी भी मौजूद रहे।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0
IIFA AWARD

फिल्मी सितारों के लिए 6 होटलों में 1000 कमरे बुक, इंदौर एयरपोर्ट पर जगह कम होने पर भोपाल और अहमदाबाद में पार्किंग की व्यवस्था

वेलिंगटन टेस्ट की हार के बाद कोहली की नसीहत- रक्षात्मक खेल से फायदा नहीं होगा, बल्लेबाजों को शॉट खेलने होंगे