in

सियासी थाल में सजी दही-चूड़ा की डिश, JDU के भोज में पूरा NDA शामिल

Makar Sankranti 2020 मकर संक्रांति के अवसर पर बिहार में हमेशा की तरह इस साल भी विभिन्‍न दलों के दही-चूड़ा भोज हुए। ऐसे ही कुछ बड़े आयोजनों पर आइए डालते हैं नजर।

मकर संक्रांति (Makar Sankranti) विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) के साल का पहला त्‍योहार (Festival) है। ऐसे में इस अवसर पर राजनीतिक दलों के भोज (Lunch by political parties) को सियासत की नजरों से देखा जाना कोई आश्‍चर्य की बात नहीं। विभिन्‍न दलों के बड़े नेताओं के इन भोजों के सियासी थाल में दही-चूड़ा की डिश खूब सजी।

सबसे बड़ा भोज जनता दल यूनाइटेड (JDU) के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह (Vashishtha Narayan Singh) के हार्डिंग रोड स्थित आवास पर पूर्वाह्न 10 बजे से शुरू हुआ। उसमें राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की एकजुटता दिखी। भोज में मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार व उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी सहित एनडीए के तमाम बड़े चेहरे दिखे। खास बात यह है कि भोज में राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) के विधायक फराज फातमी ने भी शिरकत की। उधर, सदाकत आश्रम में आयोजित कांग्रेस के भोज में विपक्षी नेताओं का जमावड़ा रहा। दूसरी ओर इस भोज के लिए प्रसिद्ध रहे लालू आवास (Lalu Residence) पर सन्‍नाटा पसरा दिखा।

मकर संक्रांति पर हो रहे तीन-चार बड़े सियासी आयोजन

मकर संक्रांति के अवसर पर सियासी दही-चूड़ा भोज के तीन-चार बड़े आयोजन हुए। जेडीयू, कांग्रेस (Congress) के आयोजन के साथ-साथ भारतीय जनता पार्टी (BJP) के विधान पार्षद (MLC) रजनीश (Rajnish) का भी दही-चूड़ा भोज चर्चा में रहा। इस साल लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) और राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) की ओर से भोज का आयोजन नहीं किया गया। हालांकि, आरजेडी उपाध्‍यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह (Raghuvansh Prasad Singh) ने एक दिन पहले 14 जनवरी को अपने आवास पर दही-चूड़ा भोज दिया, लेकिन इसमें विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव का नहीं पहुंचना बड़ी बात रही।

वशिष्‍ठ नारायण सिंह के आवास पर दिखी एनडीए की एकजुटता

जेडीयू प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह द्वारा आयोजित भोज में मुख्यमंत्री (CM) नीतीश कुमार (Nitish Kumar), उपमुख्यमंत्री (Dy.CM) सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) व राज्य मंत्रिमंडल के सदस्यों के साथ विभिन्न दलों के विधायक व कार्यकर्ता मौजूद रहे। इसमें विपक्षी आरजेडी के सदस्‍यों की मौजूदगी के राजनीतिक अर्थ भी निकाले जा रहे हैं।

भोज में मौजूद आरजेडी विधायक फराज फातमी ने इसमें किसी राजनीति से इनकार किया। हालांकि, उन्‍होंने तेजस्वी यादव की ‘पोल खोल यात्रा’ पर सवाल भी उठाए। उन्‍होंने एनआरसी और सीएए पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के स्टैंड का समर्थन किया तथा कहा कि अब तेजस्वी यादव को अपनी यात्रा पर पुनर्विचार करना चाहिए। उन्‍होंने सीएम की जल जीवन हरियाली यात्रा भी समर्थन किया।

भोज के लिए कई जिलों से 15 क्विंटल चूड़ा, 15 क्विंटल दही, 10 क्विंटल तिलकुट व गुड़-भूरा मंगाए गए। शाम में पहुंचने वाले अतिथियों के लिए खिचड़ी-चोखा का भी इंतजाम है।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

Places that made this earth Heaven

22 जनवरी को नहीं होगी निर्भया के चारों दोषियों को फांसी