in

परीक्षा न देना पड़े इसलिए किया अपने ही भतीजे को अगवा

  • खुद लिखी चिट्ठी अगर बच्चा जिन्दा चाहते हो तो रणवीर की पड़ी बंद करा दो .
  • बंधक बना कर खेत में छुपा रखा था ३ साल के बच्चे को.

मध्यप्रदेश के मुरेना जिले में १२वि की छात्र ने अपने ही भतीजे को सिर्फ इसलिए अगवा कर लिया की उसे परीक्षा न देना पड़े. ऐसा इसलिए किया की वो परिवार के साथ बच्चे को खोजने में व्यस्त रहेगा और परीक्षा देने नहीं जाना पड़ेगा.

इसके लिए उसने माैके पर एक चिट्ठी भी छाेड़ी, जिसमें लिखा था- यदि बच्चे को जिंदा चाहिए तो रणवीर (आरोपी) की पढ़ाई छुड़वा दो।

अपहरण की खबर पाकर जब पुलिस वह पहुची तो आरोपी ने खुद वो चिट्ठी पुलिस को दे दी यह कह कर की ये यहाँ पर मिली है . पुलिस ने चिट्ठी पढ़ी ताे इसी क्लू आैर संदेह के आधार पर आरोपी से पूछताछ की ताे कुछ ही देर में उसने सारी कहानी उगल दी। इसके बाद रस्सियों से बंधे मासूम को एक खेत से सकुशल बरामद कर लिया। एसपी डॉ. असित यादव के अनुसार अाराेपी रणवीर दसवीं में भी तीन बार फेल हाे चुका है। दाे साल पहले दसवीं की परीक्षा के दाैरान भी वह घर से गायब हाे गया था। 

शातिर दिमाग… फलदान समारोह से किया अपहरण

जौरा तहसील के पिपरौआ का पुरा निवासी नेमीचंद पुत्र सुखपाल कुशवाह रविवार को अपनी पत्नी सपना, बेटे बॉबी (5) व आशिक उर्फ भूकन (3) के साथ टुड़ीला में भानजे के फलदान में गया था। रात 8.30 बजे नेमी व सपना गांव के ही रिश्तेदार के यहां दोनों बच्चों को खटिया पर सुलाकर खाना खाने चले गए। जब दोनों लौटे तो छोटा बेटा आशिक गायब था। तलाश करने के बाद जब बच्चा नहीं मिला तो जौरा पुलिस में इसकी रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस को खटिया से एक चिट्‌ठी मिली।

इस पर अपहरणकर्ता ने चेतावनी दी थी कि – रणवीर की पढ़ाई छुड़वा दो। पुलिस से शिकायत की तो आशिक को मौत के घाट उतार दिया जाएगा। चिट्‌ठी में रणवीर पुत्र कृपाराम (19) का नाम आते ही पुलिस ने उसे उठाया और पूछताछ की तो उसने आशिक के अपहरण की बात स्वीकारी। पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर सुबह 7 बजे घटनास्थल से दूर एक खेत में रस्सियों से बंधे मासूम को बरामद कर लिया।

केस-2: परीक्षा के डर से 10वीं के छात्र ने फांसी लगाई

ग्वालियर. दसवीं कक्षा के छात्र सुमित गुर्जर ने परीक्षा के डर से एक दिन पहले सोमवार को फांसी लगाकर जान दे दी। उसकी मां बड़ी बहन के साथ 12वीं का पेपर दिलाने के लिए गईं थी। सुमित दो बार दसवीं में फेल हो चुका था। जरारा गांव का रहने वाला सुमित यहां किराए के मकान में मां और बहन के साथ रहता था।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

भाजपा पर दिग्विजय सिंह का गंभीर आरोप, शिवराज सिंह ने दिया करारा जवाब

Delhi Violence: मौजपुर में हिंसा के दौरान पुलिसकर्मी पर पिस्टल तानने वाला शाहरुख गिरफ्तार