in

Earthquake in Northeast: मिजोरम में फिर आया भूकंप, नागालैंड में भी डोली धरती

पूर्वोत्तर में एक बार फिर भूंकप के झटके महसूस होने के बाद लोगों में दहशत का माहौल है। मिजोरम और नागालैंड में आज तड़के भूकंप आने की खबर है। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के अनुसार मिजोरम में तडके 1:14 बजे इटके महसूस हुए भूकंप की तीव्रता 4.5 रही। इसका केंद्र चंपई से 21 किलोमीटर दक्षिण बताया जा रहा है। वहीं नागालैंड में तड़के 3.03 बजे भूकंप के झटके महसूस हुए। इसकी तीव्रता 3.8 रही। भूकंप का केंद्र वोखा से 9 किलोमीटर उत्तर उत्तरपश्चिम बताया जा रहा है। मिजोरम में एक हफ्ते में पांचवे दिन भूकंप आया है। इससे पहले 18, 21,22 और 24 जून को भूकंप के झटके महसूस किए गए। 

बता दें कि बुधवार सुबह 8.02 बजे मिजोरम 4.1 का भूकंप आया था। इसका केंद्र चंपई से 31 किमी दक्षिण-दक्षिण-पश्चिम में था। इससे पहले मंगलवार को, रिक्टर स्केल पर 4.1 तीव्रता का भूकंप, चंपई के 31 किलोमीटर दक्षिण दक्षिण-पश्चिम  में आया था। 22 जून को, मिजोरम के मुख्यमंत्री जोरमथांगा ने कहा कि 12 घंटे के भीतर राज्य में भूकंप के दो झटके महसूस हुए। 5.5 की तीव्रता का भूकंप, 22 जून को सुबह 4:10 बजे चंपई के 27 किलोमीटर दक्षिण दक्षिण-पश्चिम  में  में आया। इससे पहले 21 जून को 5.1 तीव्रता का भूकंप शाम 4.16 बजे आइजोल के 25 किलोमीटर पूर्वी उत्तर-पूर्व में आया था। वहीं, 18 जून शाम को चंफई के 98 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में रिक्टर पैमाने पर 5.0 तीव्रता का भूकंप आया था। 

भूकंप आने का कारण

बता दें कि धरती मुख्यत: इनर कोर, आउटर कोर, मेटल और क्रस्ट इन चार परतों से बनी है। क्रस्ट इनमें से ऊपरी परत है, जहां आपस में जुड़ी दर्जनों प्लेट्स होती हैं। ये प्लेट्स हिलती डुलती रहती हैं। थोड़ा बहुत हिलने पर कुछ महसूस नहीं होता, लेकिन ज्यादा हिलने पर असर पता चलता है। इसको भूकंप कहते हैं। प्लेट्स जहां जुड़ी होती हैं, वहां टकराव अधिक होने के कारण भूकंप ज्यादा आते हैं।

Report

What do you think?

Written by Bhanu Pratap

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

अंतिम वर्ष के छात्रों को नहीं देनी होगी परीक्षा, पिछले सेमेस्टर के आधर पर रिजल्ट की तैयारी

Railway

12 अगस्त तक रेगुलर ट्रेनें नहीं चलेंगी, 1 जुलाई से 12 अगस्त तक की बुकिंग है तो 100% रिफंड