in

वॉट्सएप काॅलिंग से रची गहलोत सरकार काे अल्पमत में लाने की प्लानिंग, रात तक पायलट समर्थक एमएलए के फाेन ऑफ

राजस्थान में अशोक गहलाेत सरकार काे अल्पमत में लाने की साजिश वाॅट्सएप काॅलिंग के जरिए की गई। ऐसा इसलिए भी क्याेंकि विधायकाें के फाेन टेप हाे रहे थे। जैसे ही पायलट गुट की वर्किंग पूरी हुई, सभी पायलट समर्थक विधायकाें के फाेन ऑफ हो गए।

कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट समर्थक विधायकाें के माेबाइल शनिवार से ही ऑफ हाेना शुरू हाे गए थे। इसके बाद शेष विधायकाें ने रविवार काे फाेन ऑफ किए या कराए गए। उधर देर रात तक मुकेश भाकर, रामनिवास गावड़िया, जीआर खटाना, पीआर मीना, हरीश मीणा समेत कई विधायकाें के फाेन ऑफ मिले।

मैसेंजर का उपयाेग भी

पायलट गुट काे पता था कि उनके फाेन सर्विलांस पर हैं। ऐसे वाॅट्सएप काॅलिंग के साथ-साथ मैसेंजर का भी उपयाेग किया गया। विधायकाें अपने वफादार कार्यकर्ता काे इस काम में उपयाेग लिया है।

ब्यूरोक्रेसी : कोरोना को भूले, विधायकों के नंबरों पर टिकी नजरें

सियासी उठापटक के बीच प्रदेश की ब्यूरोक्रेसी की निगाह कोरोना के बजाय विधायकों के आंकड़ों पर टिक गई है। रविवार को अवकाश होने के बावजूद ब्यूरोक्रेसी पूरे दिन राज्य की सियासी घटनाक्रम पर नजर बनाए हुए है।

हर अफसर अपने अनुसार फायदे और नुकसान का आंकलन कर रहा है। अगले दस दिनों से ब्यूरोक्रेसी भी अपने अनुसार पूरे सियासी घटनाक्रम पर पैनी नजर रखी हुई है। माना जा रहा है कि कोरोना के आंकड़े सियासी उठापटक के बीच दब जाएंगे।

जासूसी करने वालों पर नाराजगी भी

पायलट कैंप के नेताओं की जासूसी करने के लिए कुछ लाेगाें काे विशेष जिम्मेदारी भी दी गई थी। हालांकि इनके काम में कमियां रही, जिसकाे लेकर शनिवार व रविवार काे नाराजगी जताई गई। माना जा रहा है कि काम में काेताही बरतने वाले नेताओं काे भी परेशानी हाे सकती है। वे पुख्ता सूचना सरकार को नहीं दे पाए।

हमारी सरकार पूरी तरह सुरक्षित : जोशी

कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने कहा कि हमारी सरकार पूरी तरह सुरक्षित है। उन्होंने कहा कि बहुमत हमारे साथ है और सोमवार सुबह हम इसे साबित कर देंगे।

दिल्ली से भरतपुर लौटे पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह

कांग्रेस पार्टी में चल रही सरगर्मी के बीच पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह रविवार की रात भरतपुर लौट आए। राजनीतिक गलियारों में उनकी दिल्ली यात्रा को लेकर कई अटकलें लगाई जा रही थी, लेकिन उन्होंने भास्कर से बातचीत में कहा कि दिल्ली में वे अपनी सिस्टर से मिलने गए थे। मैं अपना काम कर आया हूं।

इस वाक्य के राजनीतिक मायने पूछने पर उन्होंने कहा कि कुछ नहीं मुझे मथुरा में एक केस के सिलसिले में वकील नियुक्त करना था उसे कर आया हूं। पूर्व संसदीय सचिव जाहिदा खान को भी गुडगांव बताया जा रहा है। बाकी पायलट के निकट समझे जाने वाले बयाना विधायक अमर सिंह और वैर विधायक एवं मंत्री भजनलाल जाटव जयपुर में बताए गए हैं।

कांग्रेस विधायक ही पार्टी छाेड़ना चाह रहे हैं : बेनीवाल

आरएलपी प्रमुख सांसद हनुमान बेनीवाल ने कहा कि प्रदेश के सीएम बौखलाहट में यह भी भूल रहे है कि मीडिया लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ है। एसओजी द्वारा जो नोटिस राज्य के डिप्टी सीएम को मिला उसके बाद जनता की आलोचनाओं को देखते हुए सीएम और अन्य लोगो को भी पूछताछ के लिए जारी नाेटिस वायरल हुए।

चूंकि नोटिस 10 जुलाई को जारी हुआ ऐसे में शनिवार काे प्रेस वार्ता में इस बात का जिक्र तक सीएम ने नहीं किया और नोटिस को सामान्य कार्यवाही का हिस्सा बता दिया। बेनीवाल ने कहा कि कांग्रेस के कई विधायक पार्टी छाेड़ना चाह रहे हैं।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

मप्र के 28 मंत्रियों को विभागों का बंटवारा- शिवराज ने नरोत्तम से स्वास्थ्य विभाग लेकर सिंधिया गुट के प्रभुराम को दिया

कांग्रेस विधायक दल बैठक में विधायकों ने पायलट को पार्टी बाहर करने की मांग की.