in

ब्यावरा मामले पर गर्माई राजनीति: दिग्विजय सिंह ने कहा भाजपा की गुण्डागर्दी सामने आई, शिवराज ने की एफआईआर की मांग

  • पुलिस ने 150 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों के खिलाफ धारा 144 के उल्लंघन का प्रकरण दर्ज किया है
  • डिप्टी कलेक्टर को लात मारने और चोटी पकड़कर मारपीट वाले 2 लोगों के खिलाफ कई धाराओं में मामला दर्ज

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में रविवार को निकली तिरंगा महारैली में प्रशासनिक अधिकारियों और प्रदर्शनकारियों की भीड़ में झड़प के बाद भाजपा और कांग्रेस के बीच राजनीति शुरू हो गई है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कलेक्टर और डिप्टी कलेक्टर पर आपराधिक मामला दर्ज करने की मांग की है। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने इस पूरे घटनाक्रम को भाजपा की गुण्डागर्दी करार दिया है। भाजपा का एक प्रतिनिधि मंडल मामले की जांच के लिए आज दोपहर तक ब्यावरा जाएगा। 

पुलिस ने 124 प्रदर्शनकारियों के खिलाफ धारा 144 के उल्लंघन का प्रकरण दर्ज किया है। वहीं डिप्टी कलेक्टर को लात मारने पर दो लोगों के खिलाफ शासकीय कार्य में बाधा सहित चोटी पकड़कर मारपीट करने की कायमी की है। अब तक 17 भाजपा कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया गया है। पूरे कस्बे में भारी सुरक्षाबल तैनात किया गया है। पुलिस द्वारा धारा-144 का कढ़ाई से पालन कराया जा रहा है।

दरअसल नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में रविवार को दोपहर 1 बजे शहर में 10 संगठनों ने महारैली निकालने का ऐलान किया था। इसके लिए सुबह 11 बजे से ही पूर्व तय कार्यक्रम के अनुसार मां वैष्णोदेवी मंदिर परिसर में लोगों की भीड़ जमा होने लगी थी। वहां तैनात पुलिस कर्मियों ने इसकी जानकारी आला अधिकारियों को दी तो कलेक्टर तुरंत मौके पर पहुंची। महारैली को रोकने खुद कलेक्टर ने भीड़ में लोगों को पकड़ पकड़कर थप्पड़ मारे। रैली को रोकने की कोशिश में कलेक्टर निधि निवेदिता ने राजगढ़ के पूर्व भाजपा विधायक अमरसिंह यादव की कॉलर पकड़कर खदेड़ा। वहीं उग्र हुई भीड़ ने महिला डिप्टी कलेक्टर की चोटी पकड़कर कमर पर लात और घूंसे मारे। भीड़ को संभालने पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया जिसमें 3 नेता घायल हो गए।

भाजपा कांग्रेस में आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू

  • रविवार दोपहर ब्यावरा में हुई इस घटना के बाद राजनीतिक आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। भाजपा के वरिष्ठ नेता शिवराज सिंह ने इस घटना को लोकतंत्र का काला दिन करार देते हुए कहा है कि वे खुद 22 जनवरी को ब्यावरा जाएंगे। शिवराज ने कलेक्टर और डिप्टी कलेक्टर पर आपराधिक मामला दर्ज करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि अगर कलेक्टर और डिप्टी कलेक्टर के खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं की गई तो भाजपा कोर्ट में जाएगी।
  • कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर पूरी घटना को भाजपा कार्यकर्ताओं को भाजपा की गुण्डागर्दी करार दिया है। दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर कहा कि ‘मप्र के राजगढ़ में भाजपा की गुण्डागर्दी सामने आ गयी। महिला ज़िला कलेक्टर और महिला एसडीएम अधिकारीयों को पीटा गया बाल खींचे गये। महिला अधिकारीयों की बहादुरी पर हमें गर्व है।’
  • घटना की जांच करने भाजपा का एक प्रतिनिधि मंडल पूर्व मंत्री एवं विधायक विश्वास सारंग के नेतृत्व में राजगढ़ पहुंचेगा। प्रतिनिधि मंडल की रिपोर्ट के बाद भाजपा के बड़े नेता शिवराज सिंह के नेतृत्व में ब्यावरा जाएंगे।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0
Arvind VS Vishwas

केजरीवाल आज पर्चा भरेंगे, उनके खिलाफ भाजपा से कुमार विश्वास और कांग्रेस से शीला दीक्षित की बेटी को उतारने की चर्चा

देश के 1% अमीरों की संपत्ति 70% आबादी की संपत्ति से 4 गुना अधिक, 63 अरबपतियों के पास एक साल के बजट से भी ज्यादा दौलत