in

सुरजेवाला को राज्यसभा भेजना चाहते थे राहुल गांधी, ऐसे पलटा खेल

कांग्रेस ने राज्यसभा की 55 रिक्त सीटों के लिए हो रहे चुनाव के लिए अपने 12 उम्मीदवारों के नाम की सूची गुरुवार को जारी कर दी थी. कांग्रेस ने हरियाणा से रिक्त हो रही सीट पर दो बार मुख्यमंत्री रहे भूपेंद्र सिंह हुड्डा के पुत्र दीपेंद्र सिंह हुड्डा को चुनाव मैदान में उतारा है.

बताया जा रहा है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी रणदीप सिंह सुरजेवाला को राज्यसभा भेजना चाहते थे. वहीं कुमारी शैलजा का नाम भी इस रेस में था. 10 जनपथ पर मीटिंग भी हुई. सूत्रों की मानें तो बैठक में राहुल गांधी उग्र भी हुए, लेकिन अंत में टिकट की बाजी हुड्डा के हाथ आई. हरियाणा की सीट के लिए चली खींचतान के कारण ही उम्मीदवारों के नाम का ऐलान होने में देर हुई.

सूत्रों के मुताबिक भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने पार्टी हाईकमान को साल 2012 के राज्यसभा चुनाव की याद दिलाई, जब 12 विधायकों ने शीर्ष नेतृत्व के आदेश की अवहेलना की थी.

हुड्डा ने यह साफ कर दिया कि यदि सुरजेवाला या कुमारी शैलजा में से किसी को उम्मीदवार बनाया जाता है, तो पार्टी के विधायक विद्रोह कर सकते हैं. उन्होंने 2016 के चुनाव का अतीत दोहराए जाने के खतरे की जानकारी दी.

मध्य प्रदेश में बगावत से जूझ रही कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व ने हरियाणा में भी यही मोल लेने से बेहतर समझा भूपेंद्र सिंह हुड्डा के बेटे को ही उम्मीदवार बना देना. इस तरह भूपेंद्र सिंह हुड्डा अपने बेटे को टिकट दिलाने में कामयाब हो गए. गौरतलब है कि साल 2016 के राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस ने हरियाणा से आरके आनंद को उम्मीदवार बनाया था.

क्या हुआ था 2016 में?

साल 2016 के राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार आरके आनंद का मुकाबला भारतीय जनता पार्टी समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार सुभाष चंद्रा से था. कांग्रेस के 12 विधायकों के वोट गलत इंक का उपयोग करने के कारण अमान्य हो गए. इससे सुभाष चंद्रा चुनाव जीतने में सफल रहे थे.

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

‘अपना स्वीट्स’ की बिल्डिंग सीज | INDORE NEWS

प्रियंका को राज्यसभा टिकट पर शिवसेना में शुरू हुई जंग, मराठी और गैरमराठी का बना मुद्दा