in

दिल्ली में तीन दिन से डेरा जमाए नरोत्तम मिश्रा एक्टिव मोड में, भाजपा सूत्रों ने कहा- नए चेहरों को मंत्री बनाने का सुझाव उन्हीं का

प्रदेश के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा का तीन दिन से दिल्ली दौरा राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय बना है। जबकि उन्हें आज (1 जुलाई) से प्रदेश में शुरू हुए ‘किल कोरोना अभियान’ में शामिल होना था। इधर, बुधवार को इस कार्यक्रम में शामिल होने आए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के बयान ने हलचल मचा दी है। उन्होंने कहा- ‘‘जब भी मंथन होता है, अमृत निकलता है। अमृत तो बंट जाता है, लेकिन विष शिव पी जाते हैं।’’

मुख्यमंत्री के इस बयान के बाद कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। इस बीच ये भी कहा जा रहा है कि प्रदेश की राजनीति में अभी भी कुछ बड़ा हो सकता है। अगर राजनीतिक मजबूरियों के चलते अभी नहीं हुआ तो 2020 के अंत तक हो जाएगा।

नरोत्तम दिल्ली में केंद्रीय नेताओं के संपर्क में
फिलहाल, दिल्ली में जमे गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा किससे मिले और क्या बातचीत हुई, इसका ब्योरा नहीं मिल पाया है। बताया जा रहा है कि वे केंद्रीय मंत्रियों और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के संपर्क में हैं। भाजपा सूत्रों का कहना है कि मंत्रिमंडल विस्तार में नए चेहरों को शामिल करने की बात सामने आई है, ये सुझाव नरोत्तम मिश्रा का ही था। मिश्रा गृहमंत्री अमित शाह के करीबी माने जाते हैं। शाह अपनी भोपाल यात्रा के दौरान हमेशा नरोत्तम मिश्रा के यहां ही भोजन के लिए जाते हैं।

शिवराज रविवार शाम को भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा और संगठन मंत्री सुहास भगत के साथ दिल्ली रवाना हुए थे। रविवार दोपहर तक पार्टी के आला नेताओं से मुलाकात और मंत्रिमंडल विस्तार के बारे में हो रही बातचीत मुख्यमंत्री शिवराज के मनमाफिक दिशा में जा रही थी। भोपाल भी ऐसी ही खबरें आईं कि सबकुछ ठीक है और 30 जून को मंत्रिमंडल विस्तार हो जाएगा।

जेपी नड्डा से लंबी बातचीत हुई थी 
शिवराज का सोमवार को अपराह्न 4 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने का कार्यक्रम था। इसी बीच, दिल्ली से आए फोन के बाद नरोत्तम मिश्रा विशेष प्लेन से ग्वालियर से रवाना हो गए। सूत्रों की मानें तो प्रधानमंत्री से बातचीत के बाद कुछ ऐसा हुआ कि शिवराज का मंत्रिमंडल विस्तार टल गया। मुख्यमंत्री प्रधानमंत्री निवास से सीधे मध्यप्रदेश भवन पहुंचे और रात में भाजपा कार्यालय में देर रात तक राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से बात करते रहे। मंगलवार सुबह करीब साढ़े 9 बजे भोपाल के लिए रवाना हो गए।

अच्छा नहीं रहा मुख्यमंत्री का दिल्ली दौरा
सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री के लिए दिल्ली दौरा काफी कड़वा रहा है। वे अपनी चौथी पारी में पहली बार सबसे मुश्किल दौर से गुजर रहे हैं। ऐसा पहली बार हुआ है जब मंत्रिमंडल की लिस्ट को केंद्रीय नेतृत्व ने रिजेक्ट कर दिया। इससे पहले तीन कार्यकाल में शिवराज ने जिसको चाहा, मंत्री बनाया। हर बार केंद्रीय नेतृत्व ने शिवराज की बात मानी। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को शिवराज के पिछले कार्यकालों में लगातार दो या तीन बार मंत्री रहे वरिष्ठ विधायकों को शामिल किए जाने पर भी आपत्ति है।

कैलाश से मिले थे नरोत्तम
बीते गुरुवार को नरोत्तम के आवास पर भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय पहुंचे थे। उसी दिन मुख्यमंत्री शिवराज अपने परिवार के साथ तिरुपति यात्रा पर निकले थे। कहा जा रहा है कि सीएम की गैरमौजूदगी में भाजपा के दो दिग्गज नेताओं की मुलाकात के बाद अंदरुनी समीकरण तेजी से बदले हैं।

भाजपा में बदलाव की शुरुआत
दरअसल, भाजपा के लिए आरएसएस राजनीतिक जमीन तैयार करने का काम करता है। संघ के पदाधिकारी एक विशेष कार्यशैली से काम करने के लिए जाने जाते हैं। 2018 के विधानसभा चुनाव में पार्टी को मिली हार के बाद बड़े स्तर पर फेरबदल की बात सामने आई थी। आरएसएस भी यही चाहता था कि प्रदेश भाजपा में आमूलचूल परिवर्तन किया जाए। नए और युवा चेहरे विष्णुदत्त शर्मा को पार्टी ने प्रदेश अध्यक्ष बनाया। कुछ ही समय बाद प्रदेश में कमलनाथ सरकार का पतन हो गया और शिवराज चौथी बार मुख्यमंत्री बन गए। पार्टी नेताओं का मानना है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, प्रदेश संगठन और केंद्रीय नेतृत्व नए चेहरों को मौका देने के पक्ष में है। यही कारण है कि शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार पर एक बार फिर मंगलवार को टाल दिया गया।

शाह ने बदलाव की शुरुआत की थी
दरअसल, पार्टी में पीढ़ी परिवर्तन की शुरुआत भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहते हुए अमित शाह ने की थी, जिसे राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष आगे बढ़ा रहे हैं। शाह ने 2018 के चुनाव में ही एक सीमा रेखा खींच दी थी, जिसमें मध्य प्रदेश के वयोवृद्ध बाबूलाल गौर, सरताज सिंह, कुसुम महदेले, रामकृष्ण कुसमरिया जैसे नेताओं के टिकट कट गए थे। इसके बाद भाजपा के संगठन चुनाव हुए तो सबसे पहले मंडल अध्यक्ष के लिए 35 साल की उम्र सीमा तय की गई। इसके बाद जिलाध्यक्षों के लिए भी 50 साल की लक्ष्मण रेखा खींच दी।

किसी एक नेता के साए में पार्टी को रखने के पक्ष में नहीं संघ
आरएसएस की मंशा है कि कि प्रदेश में नया नेतृत्व सामने आए और उसे काम करने का मौका मिले। सूत्रों का कहना है कि शिवराज के पिछले कार्यकाल में उन्हें मोदी की टीम में शामिल कर कृषि मंत्री बनाए जाने की चर्चा हुई थी। किन्हीं कारणों से ऐसा नहीं हुआ। प्रदेश भाजपा में लंबे समय से उपेक्षा का शिकार नेताओं में ये चर्चा है कि आखिर शिवराज कब तक। असंतुष्ट नेताओं ने अपनी बात विशेष माध्यम से आलाकमान तक पहुंचा दी है।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

कोरोनिल और श्वासारि की बिक्री पर अब रोक नहीं, लेकिन कुछ सवालों के जवाब अब भी बाकी

जूम पर 1200 लोगों की 3 घंटे चली बैठक में कमेटी का फैसला; मीटिंग में सबकी एक ही राय- हमारे लिए देश ही देव