in ,

मध्य प्रदेश में क्यों हो रहा है वेब सीरीज अभय-2 का विरोध, जानें.

मध्य प्रदेश के इंदौर में चर्चित वेब सीरीज अभय-02 को लेकर अब एक नया विवाद खड़ा हो गया है। जिले में क्रांतिकारी परिवारों से जुड़े लोग इस फिल्म का विरोध करने लगे हैं और फिल्म निर्माता एवं अन्य जिम्मेदार लोगों पर कार्यवाही की मांग उठ रही है। गौरतलब है कि हाल ही कई प्लेटफॉर्म पर रिलीज हुई वेब सीरीज अभय-02 में दिखाए गए एक सीन ने विवाद पैदा कर दिया है।

इस सीन पर हो रहा विवाद 
वेब सीरीज अभय-02 में एक सीन दिखाया गया है, जिसमें एक थाने के अंदर क्रांतिकारी खुदीराम बोस की तस्वीर उस बोर्ड पर लगी दिखाई गई है, जहां हिस्ट्रीशीटर और खूंखार बदमाशों की तस्वीर लगाई जाती है। इसे शहीद खुदीराम के अपमान से जोड़कर देखा जा रहा है। यह सीन वेब सीरीज के दूसरे पार्ट के 27 मिनट 30 सेकेंड पर दर्शाया गया है। इस सीन को देखने के बाद इस पर लगातार आपत्ति आ रही है। क्रांतिकारी परिवारों से जुड़े लोग इसे शहीद और क्रांतिकारियों का अपमान मान रहे हैं। उनका कहना है कि खुदीराम बोस के मन में देश को आजाद कराने की ऐसी लगन लगी कि नौवीं कक्षा के बाद ही पढ़ाई छोड़ दी और स्वदेशी आंदोलन में कूद पड़े और मात्र 19 साल की उम्र में भारत की आजादी के लिये फांसी पर चढ़ गए।

अपमान करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की मांग
शिकायकर्ताओं का आरोप है कि शहीद खुदीराम बोस के इस बलिदान को अनदेखा करते हुए फिल्म निर्माता ने उनका अपमान किया है जो सही नहीं है। इसके बाद कई संगठन मैदान में उतर आए हैं। यहां पर दलील यह भी दी गई कि यह तस्वीर खुदीराम बोस के जैसी हो सकती है, लेकिन क्रांतिकारी लोग इसे मानने का तैयार नहीं है और इसे बदलने की जिद पर ही अड़े हुए हैं।

उनका कहना है कि यह क्रांतिकारी का अपमान है और इसे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नही किया जा सकता. इस विरोध में शहीद चंद्र शेखर आजाद, भगत सिंह, तात्या टोपे, सहादत खान समेत कई शहीदों के परिजन शामिल हैं। सभी शहीद का अपमान करने वालो के खिलाफ कार्यवाही की मांग कर रहे हैं।

Report

What do you think?

Written by Bhanu Pratap

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

वेतन से नहीं चल रहा काम तो घर बैठे अपनाएं ये तरीके, आएगा खूब पैसा.

सरकार ने जारी किया स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 का परिणाम, लगातार चौथे साल इंदौर ने मारी बाजी.