in

रसूखदारों की पार्टी में नाबालिग लड़कियों को भेजा जाता था, शराब पिलाकर दुष्कर्म होता था; दो पर केस

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में नाबालिग लड़कियों के यौन शोषण का मामला सामने आया है। लड़कियों को रसूखदारों की देर रात चलने वाली पार्टियों में शराब पिलाकर डांस कराया जाता था। रसूखदार नाबालिगों से दुष्कर्म भी करते थे। यौन शोषण का शिकार होने वाली नाबालिग लड़कियों के बालिग होने पर मुख्य आरोपी प्यारे मियां उनकी शादी करा देता था। इस मामले में कई और रसूखदारों के नाम सामने आए हैं। पुलिस का कहना है कि जांच की जा रही है। रातीबड़ पुलिस ने इस मामले का खुलासा किया है।

पुलिस के अनुसार, रविवार तड़के 3 बजे 5 लड़कियां नशे की हालत में मिलीं। सभी को चाइल्ड लाइन को सौंप दिया गया है। काउंसलिंग के बाद पूछताछ में उन्होंने यौन शोषण किए जाने का खुलासा किया है। यह सभी लड़कियां 14 से 17 साल के बीच की हैं। डीआईजी इरशाद वली ने बताया कि मामले में एक समाचार पत्र के मालिक प्यारे मियां (68) और उसकी निजी सचिव स्वीटी (21) पर केस दर्ज किया गया है।

गश्त के दौरान नशे में मिली थीं सभी बच्चियां
रातीबड़ पुलिस की मानें तो सुबह गश्त के दौरान पांचों नाबालिग लड़कियां नशे की हालत में मिलीं। पुलिस ने बाहर घूमने का कारण पूछा। जब देखा कि यह बात करने की स्थिति में नहीं हैं तो चाइल्ड लाइन को सौंप दिया। पूछताछ में उन्होंने बताया कि वे शाहपुरा के एक फ्लैट में पार्टी से आ रही हैं। उन्हें जन्मदिन की पार्टी में डांस करने के लिए भेजा गया था। एक लड़की ने आरोप लगाया कि प्यारे मियां ने उसके साथ ज्यादती भी की है। प्यारे मियां और स्वीटी उनसे यह सब करवाते थे।  

पुलिस ने आरोपी युवती को गिरफ्तार किया
डीआईजी ने बताया कि श्यामला हिल्स में रहने वाली स्वीटी को गिरफ्तार कर लिया है। प्यारे मियां की तलाश की जा रही है। दोनों पर पॉस्को एक्ट समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज किया है। पुलिस ये भी पता लगाने की कोशिश कर रही है कि प्यारे मिया ने अब तक कितनी लड़कियों के साथ ज्यादती की है। और कितनी लड़कियों की शादी कराई है।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

भाजपा में शामिल होने के 6 घंटे बाद कुंवर प्रद्युम्न सिंह लोधी नागरिक आपूर्ति निगम के अध्यक्ष बने, कैबिनेट मंत्री का दर्जा रहेगा

कोरोना के लगातार बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इंदौर में एक बार फिर लग सकता है 7 दिन का लॉकडाउन, फैसला कल