in

वीडियो में राहुल गांधी के लिए कहा था- आपकी पप्पूगीरी का विरोध करता हूं – प्रोफेसर को जबर्दस्ती छुट्टी पर भेजा गया

  • प्रोफेसर योगेश सोमण ने कहा था- आप वास्तव में सावरकर नहीं हो, सच तो यह है कि आप सच्चे गांधी भी नहीं हो, आपके पास कोई वैल्यू नहीं है.
  • यूनिवर्सिटी ने कहा- प्रोफेसर पर सिर्फ इस पोस्ट के लिए नहीं बल्कि दूसरी शिकायतों के चलते भी कार्रवाई हुई, जांच कमेटी ने यह फैसला लिया.

कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर आपत्तिजनक वीडियो पोस्ट करने के मामले में मुंबई यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर योगेश सोमण को अनिवार्य छुट्टी (फोर्स लीव) पर भेज दिया गया है। प्रोफेसर सोमण ने दिसंबर में यह वीडियो पोस्ट किया था। हालांकि, यूनिवर्सिटी का कहना है कि प्रो. सोमण के खिलाफ कई शिकायतें थीं, जिनके आधार पर उनके खिलाफ कार्रवाई की गई। मंगलवार को आई रिपोर्ट के मुताबिक, भाजपा ने इस कार्रवाई को असहिष्णुता बताया।

दरअसल, राहुल गांधी ने पिछले दिनों सावरकर को लेकर बयान दिया था, जिस पर उनकी आलोचना हुई थी। इसके बाद मुंबई यूनिवर्सिटी में एकेडमी ऑफ थिएटर आर्ट्स के निदेशक प्रोफेसर सोमण ने फेसबुक-ट्विटर पर 14 दिसंबर को 51 सेकंड का वीडियो पोस्ट किया था, जिसमें उन्होंने कहा था, “आप वास्तव में सावरकर नहीं हो, सच तो यह है कि आप सच्चे गांधी भी नहीं हो, आपके पास कोई वैल्यू नहीं है। यह कहते हुए मैं गांधी की पप्पूगीरी का विरोध करता हूं।”

कई मामलों में कार्रवाई हुई: यूनिवर्सिटी
यूनिवर्सिटी ने कहा- जांच कमेटी के फैसले के आधार पर प्रोफेसर सोमण को छुट्टी पर भेजा गया है। इससे पहले कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई, वामपंथी छात्र संगठन एआईएसएफ और छात्र भारती ने प्रोफेसर सोमण के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए यूनिवर्सिटी में विरोध प्रदर्शन किया था।

छात्रों को भड़काकर आंदोलन के लिए प्रेरित किया जा रहा: भाजपा
मुंबई भाजपा के अध्यक्ष आशीष शेलार ने प्रोफेसर सोमण पर कार्रवाई की निंदा की। उन्होंने कहा- एनएसयूआई और एआईएसएफ के सदस्यों ने प्रो. सोमण को धमकियां दीं। क्या यह असहिष्णुता नहीं है? कुछ दिनों से शैक्षणिक-सांस्कृतिक संस्थानों के छात्रों को भड़काकर उन्हें आंदोलन करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। क्या यह असहिष्णुता नहीं है?

प्रोफेसर भाजपा की शह पर कार्यक्रमों में हिस्सा लेते रहे: कांग्रेस
महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत ने कहा- किसी भी सरकारी कर्मचारी को राजनीतिक गतिविधियों से दूर रहना चाहिए। प्रोफेसर सोमण भाजपा की शह पर राजनीतिक कार्यक्रमों में हिस्सा लेते रहे हैं। संविधान की रक्षा के लिए एनएसयूआई ने जो कदम उठाया, हमें उस पर गर्व है।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

कांग्रेस की मांग पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा- हार के डर से कांग्रेस मतपत्र से कराना चाहती है निकाय चुनाव

दिग्विजय और कैलाश विजयवर्गीय ने एक-दूसरे को पहनाई मालवी पगड़ी, खूब ठहाके लगाए