in

MP Political Crisis LIVE: कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद अपने आवास पहुंचे सिंधिया

कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने आवास पर पहुंच गए हैं। वह जल्द भाजपा में शामिल होने का एलान कर सकते हैं। वहीं समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार कांग्रेस ने उन्हें पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के लिए निकाल दिया। कांग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से ज्योतिरादित्य सिंधिया को पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के लिए तत्काल प्रभाव से निष्कासित कर दिया। उस पत्र पर 9 मार्च की तारीख लिखी हुई है। इससे पहले वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनके आवास पर मिले। इस दौरान उनके साथ गृहमंत्री अमित शाह भी मौजूद थे। वह यहां शाह से साथ ही पहुंचे थे।

मध्य प्रदेश में हमारी सरकार नहीं बच पाएगी- अधीर रंजन चौधरी

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने इसे लेकर कहा’ इससे हमारी पार्टी को नुकसान होगा। मुझे नहीं लगता कि मध्य प्रदेश में हमारी सरकार बच पाएगी। यही भाजपा की वर्तमान राजनीति है। वह विपक्षी सरकार को गिराने और अस्थिर करने में लगी रहती है।’

दिग्विजय सिंह का भाजपा पर आरोप

दिग्विजय सिंह ने भाजपा पर आरोप लगाया कि कथित तौर पर जिस विमान से कांग्रेस के विधायक बेंगलुरु पहुंचे उसकी व्यवस्था भाजपा ने की थी। यह मध्य प्रदेश के लोगों के जनादेश को उलटने की साजिश का हिस्सा है। कमलनाथ ने माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई की है। इससे डरकर भाजपा ऐसा कर रही है। उधर कांग्रेस नेता भोपाल में सीएम कमलनाथ के आवास पर बैठक कर रहे हैं। यहां कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह, जीतू पटवारी, बाला बच्चन, सज्जन सिंह वर्मा, सुरेंद्र सिंह बघेल समेत अन्य लोग मौजूद हैं। 

भाजपा सिंधिया को राज्यसभा भेज सकती है

भाजपा सिंधिया को राज्यसभा भेज सकती है। यह भी कयास लगाए जा रहे हैं कि वह केंद्रीय मंत्री भी बन सकते हैं। वहीं भोपाल में भाजपा कार्यालय में बैठक जारी। यहां शिवराज सिंह चौहान, वीडी शर्मा और विनय सहस्त्रबाहु सहित वरिष्ठ नेता उपस्थित है। 

इससे पहले सिंधिया दिल्ली में अपने आवास से खुद गाड़ी लेकर निकले। मीडिया ने उनसे बात करने की कोशिश भी की, पर कोई जवाब नहीं मिला। बता दें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके समर्थक कमलनाथ सरकार के रवैये से बेहद नाराज हैं। बता दें कि आज पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व. माधवराव सिंधिया की 10 मार्च को 75वीं जयंती है।

सोनिया गांधी ने आपात बैठक बुलाई

कमलनाथ सरकार को संकट में देख सोनिया गांधी ने आपात बैठक बुलाई है। दैनिक जागरण के सहयोगी अखबार नई दुनिया के अनुसार कांग्रेस सरकार को बड़ा इटका लग सकता है। जानकारी के अनुसार मालवा-निमाड़ के 5 विधायक सुबह गुजरात के रास्ते दिल्ली पहुंचे हैं। सभी विधायक सिंधिया खेमे के हैं। एक निर्दलीय विधायक भी लापता बताया जा रहा है। ऐसे में 25 विधायकों के गायब होने की आशंका है।  

ई-मेल के जरिए अपना इस्तीफा दे सकते हैं सिंधिया समर्थक विधायक

दैनिक जागरण के सहयोगी अखबार नई दुनिया के अनुसार इस बीट यह खबर है कि सिंधिया समर्थक विधायक, जो बेंगलुरु में है वो ई-मेल के जरिए अपना इस्तीफा दे सकते हैं। इस्तीफा स्वीकार नहीं होने पर वो भोपाल आकर इस्तीफा देंगे। 

यह कांग्रेस का आंतरिक मामला- शिवराज

आज सुबह भोपाल पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि यह कांग्रेस का आंतरिक मामला है और वो इस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते। भाजपा का इससे कोई लेना-देना नहीं है। हमने पहले दिन कहा था कि हमें सरकार गिराने में कोई दिलचस्पी नहीं है।

सिंधिया का भाजपा में दिल से स्वागत

भाजपा नेता नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी में सभी का दिल से स्वागत है। हम जमीनी स्तर के कार्यकर्ताओं को भी शामिल करते हैं, सिंधिया जी बहुत बड़े नेता हैं, उनका निश्चित रूप से स्वागत है। उन्होंने विधायकों के बेंगलुरु पहुंच जाने पर कहा कि दुश्मनों के खाकर दोस्तों के शहर में उनको किस-किस ने मारा कहानी फिर कभी।

जो सही कांग्रेसी है वह कांग्रेस में रहेगा- दिग्विजय

इससे पहले दिग्विजय सिंह ने कहा कि जो सही कांग्रेसी है वह कांग्रेस में रहेगा। बता दें किपूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की नाराजगी के कारण कमलनाथ सरकार संकट में आ गई है। सिंधिया को लेकर दिग्विजय ने कहा कि उनसे संपर्क करने की कोशिश की गई, लेकिन कहा जा रहा है कि वे स्वाइन फ्लू से पीड़ित हैं। ऐसे में उनसे संपर्क नहीं हो सका।  

सिंधिया के दम पर भाजपा मध्य प्रदेश में सत्ता पलटने की तैयारी में

बता दें कि सिंधिया के दम पर भाजपा मध्य प्रदेश में सत्ता पलटने की तैयारी में है। सिंधिया समर्थक 17 मंत्री-विधायकों का सोमवार को बेंगलुरु पहुंच जाना इसी ओर इशारा कर रहा है। प्रदेश के खुफिया सूत्रों ने भी एक-दो दिन में बड़े बदलाव की बात कही है। इस बीच करीब 20 मंत्रियों ने मुख्यमंत्री कमलनाथ को देर रात इस्तीफे सौंप दिए।

भाजपा ने अपने विधायकों को भोपाल बुलाया

उधर, भाजपा ने अपने विधायकों को भोपाल बुला लिया है। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने भी देर रात दिल्ली में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की। सूत्रों के मुताबिक पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कमलनाथ और सिंधिया दोनों से कहा था कि वे अपने विवाद सुलझा लें। उन्होंने सिंधिया को मनाने के लिए राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को बातचीत करने की जिम्मेदारी भी सौंपी थी। पायलट ने सिंधिया से दो दौर की बात भी की थी, लेकिन सिंधिया अपनी उपेक्षा से इतने नाराज थे कि वह नहीं माने।

क्यों मचा बवाल

बताया जाता है कि कमलनाथ और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने सिंधिया की शिकायत की थी। ऐसे में सिंधिया भी हाईकमान के सामने अपनी बात रखने के लिए दो दिनों से सोनिया गांधी से मिलने का वक्त मांग रहे थे, पर उन्हें मुलाकात का मौका नहीं मिला। ऐसे में रविवार को ही सिंधिया को इस बात का आभास हो गया कि राज्यसभा का टिकट मिलना मुश्किल हो सकता है। इसके बाद सिंधिया कैंप में खलबली मची और सारी रात चली सियासत के बाद अंतत: सिंधिया ने कांग्रेस से दूरी बनाने के लिए अपने समर्थकों को दिल्ली तलब कर लिया।

सिंधिया के गुस्से का उबाल एक दिन का घटनाक्रम नहीं

सोमवार सुबह होते-होते सारे समर्थक दिल्ली में एकत्र हो गए और शाम को सभी ने चार्टर्ड फ्लाइट से बेंगलुरु के लिए उड़ान भर दी। बताया जाता है कि सिंधिया के गुस्से का उबाल एक दिन का घटनाक्रम नहीं है। इसे परवान चढ़ने में पूरे 20 दिन लगे है। तीन सप्ताह से वह संगठन को इस बारे में लगातार संकेत दे रहे थे, लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हुई। आखिर उन्होंने ब्रह्मास्त्र का प्रयोग कर दिया। देर रात शाह के निवास पर बैठकसोमवार देर रात अमित शाह के निवास पर भाजपा नेताओं की महत्वपूर्ण बैठक हुई। इसमें सिंधिया की भाजपा में संभावना और भूमिका पर विचार किया गया।

शाम सात बजे होने वाली भाजपा विधायक दल की बैठक अहम

सिंधिया मंगलवार को दिल्ली में ही अथवा भोपाल में शाम सात बजे होने वाली भाजपा विधायक दल की बैठक में पार्टी में शामिल हो सकते हैं। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को विधायक दल का नेता चुना जा सकता है। सिंधिया को भाजपा ने राज्यसभा सदस्य के साथ केंद्रीय मंत्री बनाने का भरोसा दिया है। हालांकि, इसकी कोई भी सूत्र पुष्टि नहीं कर रहा है।

राज्य की दलीय स्थिति

मप्र विस की कुल सीटें-230-दो सीटें रिक्त, प्रभावी संख्या 228-अभी बहुमत का आंकड़ा 115। सत्तापक्ष- कांग्रेस 114,निर्दलीय- 04,बसपा- 02, सपा-01(इन्हें मिलाकर कांग्रेस के पास फिलहाल 121 विधायक हैं।) विपक्षी भाजपा 107-17 विधायकों के पाला बदलकर इस्तीफा देने पर कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ जाएगी।17 विधायकों के इस्तीफे के बाद ऐसा होगा गणित-विस की प्रभावी संख्या होगी 211-बहुमत के लिए जरूरी होंगे 106-चार निर्दलीय विधायकों ने भाजपा का साथ दिया तो भाजपा का आंकड़ा 111 -यानी बहुमत से पांच ज्यादा।

20 मंत्रियों ने सौंपे इस्तीफे

सोमवार रात कमलनाथ कैबिनेट की आपात बैठक में 20 मंत्रियों ने अपने इस्तीफे सौंप दिए। मंत्रियों ने मुख्यमंत्री से मंत्रिमंडल का नए सिरे से गठन करने का आग्रह किया है। मंगलवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाई गई है। प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने यह जानकारी दी।

Report

What do you think?

Written by Bhanu Pratap

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने काँग्रेस से इस्तीफा दिया.

मप्र में सियासी हलचल / सिंधिया कुछ देर में भाजपा में शामिल होंगे, भोपाल पहुंचकर शुक्रवार को राज्यसभा के लिए पर्चा भरा करेंगे; समर्थकों की मांग- अलग पार्टी बनाएं