in ,

सीएए और एनसीआर के विरोध में 50 से ज्यादा मुस्लिम भाजपाइयों ने पार्टी से इस्तीफा दिया

  • कहा- इस देश में हिंदू-मुस्लिम मुद्दों का अंत होना चाहिए, लेकिन एक के बाद एक मुद्दे सामने आते जा रहे हैं
  • इस्तीफा देने वालों में इंदौर, महू, देवास और खरगोन के भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के पदाधिकारी शामिल 

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में भाजपा के 50 से ज्यादा मुस्लिम कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने गुरुवार को पार्टी से सामूहिक इस्तीफा दे दिया। भाजपा को अलविदा कहने वाले इन कार्यकर्ताओं का कहना था कि इस देश में हिंदू-मुस्लिम मुद्दों का अंत होना चाहिए, लेकिन एक के बाद एक मुद्दे सामने आते जा रहे हैं जिसके चलते अर्थव्यवस्था और रोजगार जैसे मुद्दों पर चर्चा ही नहीं हो रही है।


गुरुवार को इंदौर में इस्तीफा देने वाले भाजपा कार्यकर्ताओं ने मीडिया से कहा कि वर्तमान परिदृश्य की बात करें तो देश में भेदभाव चल रहा है। कश्मीर से धारा 370 हटी तो हमने कहा कि अच्छा हुआ। हम उसके पक्ष में थे कि अब कश्मीर में हम भी जाकर रह सकते हैं। तीन तलाक समाप्त हुआ तब भी हमने कोई हिंदू-मुस्लिम नहीं किया। बाबरी मस्जिद के फैसले में भी मंदिर के साथ मस्जिद को भी स्थान दिया जा रहा है। इस देश में हिंदू-मुस्लिम कब तक चलेगा, एक मुद्दा समाप्त होता है तो दूसरा मुद्दा सामने आ जाता है। दूसरे के बाद तीसरा, चौथा…लगातार नए-नए मुद्दे सामने कर दिए जाते हैं।

अर्थव्यवस्था और रोजगार की बात कब करेंगे

हम हिंदु-मुसलमान के बजाय अर्थव्यवस्था, रोजगार की बात कब करेंगे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की कार्यशैली से नाराज इन कार्यकर्ताओं का कहना था कि वे सीएए का विरोध करते हैं और प्रस्तावित एनआरसी के साथ ही एनपीआर का भी विरोध करेंगे।

भाजपा में इसलिए नहीं आए थे बिरादरी से दूर हो जाएं
भाजपा से इस्तीफा देने वालों में इंदौर के साथ महू, देवास और खरगोन के भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के पदाधिकारी शामिल हैं। इनका कहना है कि भाजपा अब सबकी पार्टी नहीं रही। यहां सबके लिए इंसाफ नहीं है। जिस कानून की जरूरत नहीं थी, उसे खड़ा कर दिया गया। इसी के विरोध में पार्टी छोड़ी जा रही है। इनका कहना है कि वे इसलिए भाजपा में नहीं आए थे कि वे अपनी बिरादरी, समाज से दूर हो जाएं।


भाजपा छोड़ने वालों में विजयवर्गीय के खास समर्थक भी
पार्टी से इस्तीफा देने वालों में राजिक फर्शीवाला भी शामिल हैं जो भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के खास समर्थक माने जाते रहे हैं। इसके अलावा देवास की इटावा से पार्षद शबाना रईस खान, खरगोन अल्पसंख्यक मोर्चा के जिलाध्यक्ष तस्लीम खान, अल्पसंख्यक मोर्चा मप्र की सदस्य सईदा खान, अल्पसंख्यक मोर्चा मप्र के मीडिया प्रभारी आरिक शेख, रेहान चौधरी, अल्संख्यक मोर्चा के नगर महामंत्री वसीम खान आदि शामिल है।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

द्वारका-शारदापीठ के शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती को यूरिन संक्रमण; जबलपुर के अस्पताल में भर्ती

झारखंड : CAA के समर्थन में निकली रैली पर फेंके गये पेट्रोल बम, गाड़ियां और दुकानें फूंकीं, धारा 144 लागू