in ,

अब जनरल बोगियों में भी मिलेगा कंफर्म टिकट, वो भी व्हाट्सएप पर, जानिए कैसे

railwaay

रेलवे अपने मुसाफिरों को एक और सुविधा देने पर विचार कर रहा है. हालांकि योजना की शुरुआत दानापुर मंडल से हो गयी है. योजना की सफलता के बाद पूरे देश में लागू करने पर विचार किया जा रहा है.

रेलवे अपने यात्रियों को सुविधा देने के लिए नई-नई पहल करता रहता है. समय की बचत और भीड़ से छुटकारे के उपायों पर रेलवे अब तक बहुत सारे उपाय कर चुका है. इसी क्रम में अब यात्रियों को एक और रेलवे की तरफ से सुविधा मिलने वाली है. अभी तक हम स्लीपर क्लास, एसी क्लास तक ही रिजर्वेशन के बारे में सुनते चले आए हैं लेकिन अब जनरल बोगियों में भी कंफर्म टिकट के लिए बुकिंग की जा सकती है.

नई योजना के तहत आपकी सीट का नंबर आपके फोटो के साथ आपके व्हाट्सएप पर आ जाएगा. इससे आपको कंफर्म टिकट की चिंता से निजात मिल जाएगी. साथ ही सीट पर कब्जा जमाने के लिए होने वाली मारामारी से भी बचा जा सकेगा. इसके अलावा जनरल बोगियों में दलाली राज पर भी अंकुश लग सकेगा. अगर योजना धरातल पर सफल रही तो रेलवे अब पूरे देश में लागू कर सकता है. हालांकि अभी इस तरह की सुविधा पूर्व मध्य रेलवे के दानापुर मंडल में दी जा रही है. जिसे पायलट प्रोजेक्ट के रूप में पास फॉर अनरिजवर्ड बोर्ड नाम से चालू किया गया है. इसके तहत जनरल डिब्बों में अनारक्षित सीटों पर भी कंफर्म सीट मिल सकेगी. अभी अनारक्षित टिकट देते वक्त यात्रियों को बोर्डिंग पास दिया जा रहा है.

सुविधा का लाभ उठाने के लिए क्या करना होगा ?

ऐसे में सवाल पैदा होता है कि सुविधा का लाभ उठाने के लिए क्या करना होगा. क्या पहले से रिजर्वेशन कराना होगा या फिर इस स्कीम के तहत तत्काल का प्रावधान रहेगा. अब आपको बताते हैं कि स्टेशन पर रेलवे काउंटर के साथ ही एक पूरब का काउंटर बनाया गया है. यहां पर अगर आप जाते हैं तो पहचान पत्र देखकर आपकी फोटो खींच ली जाएगी. उसके बाद आपके व्हाट्सएप नंबर पर डिजिटल टिकट भेज दिया जाएगा. डिजिटल टिकट में आपका फोटो लगा होगा. इस तरह आपको जनरल डिब्बों में भी कंफर्म टिकट मिलने की संभावना बढ़ जाएगी.

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

दमोह में छेड़छाड़ से परेशान छात्रा के खुदकुशी करने पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा- मप्र कभी उप्र नहीं बनेगा

उन्नाव की स्याह तस्वीर – 11 माह में दुष्कर्म के 86 मामले, जिले में छेड़खानी की 185 एफआईआर हुईं