in

कोरोना वायरस से दहशत में पाकिस्‍तान, चीन से नहीं निकालेगा अपने नागरिक, उड़ानें भी रोकी

चीन में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस के खतरे से पाकिस्‍तानी हुकूमत खौफजदा हो गई है। पाकिस्‍तान ने कहा है कि वह चीन में फंसे अपने नागरिकों को नहीं निकालेगा। समाचार एजेंसी आइएएनएस ने पाकिस्‍तानी अखबार ‘द एक्‍सप्रेस ट्रिब्‍यून’ के हवाले से बताया है कि चीन में फंसे पाकिस्‍तानियों में मुख्‍य रूप से छात्र हैं जो वुहान शहर में फंसे हैं। वुहान चीन का वह शहर है जहां से यह महामारी चीन के बाकी हिस्‍सों समेत दुनिया के मुख्‍तलिफ मुल्‍कों में पहुंची है।  

‘द एक्‍सप्रेस ट्रिब्‍यून’ ने नेशनल हेल्‍थ सर्विस पर पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) के विशेष सहायक जफर मिर्जा (Zafar Mirza) के हवाले से बताया है कि सरकार अपने नागरिकों को चीन के वुहान शहर से नहीं निकालेगी। मिर्जा ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) भी यही चाहता है और चीन की भी ऐसी ही इच्‍छा है। हम भी इसी नीति के साथ हैं। हम पूरी एकजुटता से चीन के साथ खड़े हैं। चीन की सरकार ने इस महामारी को वुहान शहर तक सीमित रखने की कोशिश की है। ऐसे में यदि हम गैरजिम्मेदारी से काम करते हैं और अपने लोगों को वहां से निकालना शुरू करते हैं तो यह महामारी जंगल की आग की तरह पूरी दुनिया में फैल जाएगी। 

असल में आर्थिक बदहाली के दौर से गुजर रहे पाकिस्‍तान में स्‍वास्‍थ्‍य सेवाएं चरमरा गई हैं। आलम यह है कि पाकिस्‍तान में इस वायरस के संक्रमण की जांच तक की सुविधा मौजूद नहीं है। संक्रमण के मामलों की जांच के लिए वह चीन पर नि‍र्भर है। वहीं महाशक्ति बनने का ख्‍वाब देख रहे चीन को इस महामारी से निपटने और बीमार मरीजों की देखभाल के लिए सेना उतारनी पड़ी है। चीन में अब तक इस वायरस के संक्रमण से 213 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 10,000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। खतरे का आलम यह है कि विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन को भी इस वायरस को लेकर इंटरनेशनल इमरजेंसी घोषित कर दी है। 

पाकिस्‍तान का यह बयान वुहान में फंसे चार पाकिस्‍तानी छात्रों में संक्रमण की पुष्‍टि‍ के एक दिन बाद आया है। चीन के वुहान शहर में मौजूद विभिन्‍न यूनिवर्सिटि‍यों में लगभग 500 पाकिस्‍तानी छात्र पढ़ रहे हैं। पाकिस्‍तान में इस वायरस के दहशत का आलम यह है कि उसने शुक्रवार को चीन आने जाने वाली सभी फ्लाइटों पर तत्‍काल प्रभाव से रोक लगा दी है। वहीं भारत ने चीन के वुहान शहर में फंसे अपने 600 लोगों को निकालने के लिए एयर इंडिया का B-747 विमान रवाना कर दिया है। वहीं भारतीय सेना ने भी चीन से आने वाले 600 भारतीयों के लिए अलग बेड की व्यवस्था कर रही है। भारत के इस फैसले से पाकिस्‍तान को सबक लेना चाहिए जिसने चीन में अपने नागरिकों को मरने के लिए उनके हाल पर छोड़ दिया है। 

Report

What do you think?

Written by Bhanu Pratap

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

नागरिकता संशोधन कानून अंग्रेजों के काले कानून जैसा: उर्मिला मातोंडकर

दूसरा सुपर ओवर मैच जीतने के विराट कोहली ने बताया- क्या था हमारा असली प्लान