in

रईसजादे ने ग्रंथी की बेटी को फिर अगवा किया, सिखों के विरोध को मुस्लिमों ने अपने खिलाफ मान लिया

  • ननकाना साहिब पर शुक्रवार देर शाम मुस्लिम कट्टरपंथियों की भीड़ ने पथराव किया था
  • भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था- गुरुद्वारे पर हुई पत्थरबाजी की घटना पर कार्रवाई करे पाकिस्तान

पाकिस्तान के सैकड़ाें कट्टरपंथी मुस्लिमाें ने शुक्रवार शाम सिखों के पवित्र धर्मस्थल ननकाना साहिब गुरुद्वारे काे घेरकर पथराव किया। प्रदर्शनकारियों ने सिखों को भगाने और ननकाना साहिब का नाम बदलने की धमकी भी दी। घटना पर भारतीय विदेश मंत्रालय की तरफ से नाराजगी जाहिर करने के बाद मामले में पाकिस्तानी सरकार ने हस्तक्षेप किया। इमरान सरकार के अफसरों ने प्रदर्शनकारियों से समझौता कर गुरुद्वारे के बाहर से भीड़ हटाई और 35 सिख श्रद्धालुओं को सही सलामत बाहर निकाला।


करतारपुर कॉरिडोर के उद्धाटन (9 नवंबर) से चार दिन पहले ननकाना साहिब गुरुद्वारे के ग्रंथी की बेटी जगजीत कौर काे मो. हसन नाम के मुस्लिम युवक ने अगवा कर लिया था। धर्म परिवर्तन कराकर निकाह कर लिया था। तब लड़की के पिता ने करतारपुर में धरना देने की चेतावनी दी थी। इसके चलते पुलिस ने लड़की को वापस पिता के पास भिजवा दिया था। मुस्लिम लड़का रईस परिवार से है। बाद में कुछ लोगों ने उसकी ताकत पर सवाल उठाए। कहा कि कैसे बंदे हो जो लड़की चली गई। इसके बाद उस युवक ने दोबारा लड़की को अगवा कर लिया। विरोध में सिखों ने प्रदर्शन किया, जिसे स्थानीय मुसलमानों ने समुदाय के खिलाफ मान लिया। इसी वजह से गुरुद्वारा साहिब पर पथराव किया गया। पंजाब प्रांत के एक मंत्री ने फोन कर पुलिस को मौके से सिखों को निकालने के लिए कहा, तब जाकर पुलिस पहुंची।

ब्रिटिश सांसद ने इमरान से पूछे सवाल

इस घटना की गूंज दुनियाभर में पहुंची। ब्रिटेन की लेबर पार्टी की सांसद प्रीत कौर गिल ने प्रधानमंत्री इमरान खान से सवाल करते हुए कहा, यह चिंता की बात है, आखिर क्यों पाकिस्तान में सिख समुदाय को निशाना बनाया जा रहा है?

आरोपी की रिहाई के बाद गुरुद्वारे से हटे प्रदर्शनकारी
सिख समुदाय के प्रदर्शन के बाद लड़की को अगवा करने वाले हसन को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। शुक्रवार को प्रदर्शन के बाद देर रात उसे रिहा कर दिया गया। भीड़ ने कहा, मर्जी से इस्लाम कबूलकर शादी करने वाली लड़कियों को लेकर सिख समुदाय बेवजह हंगामा खड़ा करता है। प्रदर्शनकारियों ने सिखों को भगाने, गुरुद्वारा ढहाने व शहर का नाम बदलकर गुलाम अली मुस्तफा रखने की धमकी दी थी।

आरोपी के परिवार ने भीड़ का नेतृत्व किया
भीड़ का नेतृत्व ननकाना साहिब की सिख लड़की जगजीत कौर को अगवा करने और जबरन धर्मांतरण कर निकाह करने के आरोपी मोहम्मद हसन के परिवार ने किया। हसन ने भीड़ से कहा, शहर की जनता यहां गुरुद्वारा नहीं चाहती। यहां पर एक भी सिख को नहीं रहने दिया जाएगा। 28 अगस्त 2019 को गुुरुद्वारा ननकाना साहिब के ग्रंथी के परिवार ने मुस्लिम युवक व उसके साथियों पर उसकी नाबालिग बेटी का धर्मान्तरण कर जबरन निकाह करने का आरोप लगाया था।

भारत ने कहा- सिखों की सुरक्षा को तत्काल कदम उठाए पाक
भारत ने गुरुद्वारे में ताेड़फाेड़ की निंदा करते हुए कहा, पाक सिखाें की सुरक्षा के लिए तत्काल जरूरी कदम उठाए। उपद्रवियाें पर सख्त कार्रवाई हो। इधर एसजीपीसी प्रधान भाई लोंगोवाल ने कहा कि समूचा सिख पंथ पाक में सिखों के साथ है।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

जांच कमेटी की रिपोर्ट: बच्चों की मौत ठंड से हुई, हकीकत में यहां वॉर्मर, नेबुलाइजर, इंफ्यूजन पंप तक खराब

कैबिनेट मंत्री नहीं बनाने से नाराज राज्यमंत्री अब्दुल सत्तार ने इस्तीफा दिया, मंत्रालय बंटवारे को लेकर कांग्रेस-राकांपा में ठनी