in ,

सूर्य ग्रहण – देशभर में देखा गया दशक का आखिरी ग्रहण, 2:52 घंटे तक चंद्रमा के आगोश में रहा सूर्य

  • ग्रहण मुंबई, बेंगलुरु, दिल्ली, चेन्नई, कन्याकुमारी समेत देश के कई शहरों में दिखा; अगला सूर्य ग्रहण 21 जून 2020 को होगा
  • सूर्य ग्रहण और धनु राशि में 6 ग्रहों का दुर्लभ योग, अब ऐसा संयोग 559 साल बाद बनेगा
  • गुरुवार को सूर्य, बुध, गुरु, शनि, चंद्र और केतु धनु राशि में रहेंगे, 12 घंटे पहले रात से सूतक लगा
  • ग्रहण के समय करना चाहिए मंत्रों का मानसिक जाप और नकारात्मक विचारों से बचें

दशक का आखिरी सूर्य ग्रहण गुरुवार सुबह 8:04 बजे शुरू हुआ। भारत में ग्रहण काल 2:52 घंटे तक रहा। 9:30 बजे मध्य काल के बाद ग्रहण 10:56 बजे खत्म हुआ। मुंबई, बेंगलुरु, दिल्ली, चेन्नई, कासरगोड़ा, कन्याकुमारी समेत अन्य शहरों में ग्रहण दिखाई दिया। केरल के कारगोड़ा, महाराष्ट्र के मुंबई और यूएई के दुबई में चंद्रमा ने सूर्य को ढक लिया और रिंग ऑफ फायर की स्थिति नजर आई। देश में अधिकतम स्थानों पर खंडग्रास और दक्षिण भारत की कुछ जगहों पर कंकणाकृति सूर्य ग्रहण रहा। एशिया के कुछ देश, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया में भी ग्रहण देखा गया।

सूर्य ग्रहण के दौरान धनु राशि में एक साथ 6 ग्रह स्थित में रहे। आज पौष मास की अमावस्या तिथि है। ग्रहण के बाद पवित्र नदी में स्नान करने की परंपरा है। इसके बाद अगला सूर्य ग्रहण 21, जून 2020 को होगा, ये भारत में दिखाई देगा। 26 दिसंबर के सूर्य ग्रहण के बाद एक राशि में 6 ग्रहों के साथ सूर्य ग्रहण का योग 559 साल बाद सन 2578 में बनेगा।

  • सवाल – सूर्य ग्रहण पर कौन-कौन से दुर्लभ योग बन रहे हैं और कितन सालों बाद ये योग बने हैं?

जवाब – काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के डॉ. गणेश प्रसाद मिश्रा बताते हैं कि ऐसा दुर्लभ सूर्यग्रहण 296 साल पहले 7 जनवरी 1723 को हुआ था। उसके बाद ग्रह-नक्षत्रों की वैसी ही स्थिति 26 दिसंबर को रहेगी। इस दिन मूल नक्षत्र और वृद्धि योग में सूर्य ग्रहण पड़ रहा है। 296 साल बाद दुर्लभ योग बन रहे हैं। इस दिन मूल नक्षत्र में 4 ग्रह रहेंगे। वहीं, धनु राशि में सूर्य, चंद्रमा, बुध, बृहस्पति, शनि और केतु रहेंगे। इन 6 ग्रहों पर राहु की पूर्ण दृष्टि भी रहेगी। इनमें 2 ग्रह यानी बुध और गुरु अस्त रहेंगे। इन ग्रहों के एक राशि पहले (वृश्चिक में) मंगल और एक राशि आगे (मकर में) शुक्र स्थित है।

  • सवाल – अब भविष्य में कब बनेगा ऐसा योग?

जवाब – पं. मनीष शर्मा के अनुसार 26 दिसंबर को  धनु राशि में 6 ग्रहों की युति के साथ सूर्य ग्रहण होने जा रहा है, ये योग 296 साल बाद बना है। गुरुवार को सूर्य, बुध, गुरु, शनि, चंद्र और केतु धनु राशि में रहेंगे। राहु की दृष्टि रहेगी, मंगल वृश्चिक में और शुक्र मकर राशि में रहेगा। इस तरह का सूर्य ग्रहण 7 जनवरी 1723 को 296 साल पहले बना था। अब ऐसा योग 559 साल बाद 9/1/2578 को बनेगा। उस समय सूर्य, बुध, गुरु, शनि, चंद्र और केतु धनु राशि में रहेंगे, राहु की दृष्टि के साथ सूर्य ग्रहण होगा।

  • सवाल – सूर्य ग्रहण के समय धनु राशि में कौन-कौन से 6 ग्रह रहेंगे?

जवाब – पं. शर्मा के अनुसार इस साल का अंतिम सूर्य ग्रहण मूल नक्षत्र और धनु राशि में होगा। ग्रहण के समय सूर्य, बुध, गुरु, शनि, चंद्र और केतु धनु राशि में एक साथ रहेंगे। केतु के स्वामित्व वाले नक्षत्र मूल में ग्रहण होगा और नवांश या मूल कुंडली में किसी प्रकार का अनिष्ट योग नहीं होने से प्रकृति को नुकसान की संभावना नहीं है। इस बार सूर्य ग्रहण से पहले चंद्र ग्रहण नहीं हुआ है और आगे भी चंद्र ग्रहण नहीं होने से प्रकृति को बड़े नुकसान की संभावना नहीं है। ग्रहण का प्रभाव मूल नक्षत्र और धनु राशि वालों पर ज्यादा रहेगा।

  • सवाल – सूर्य ग्रहण का सूतक काल कब से शुरू होगा?

जवाब – सूर्य ग्रहण का सूतक काल ग्रहण से 12 घंटे पूर्व से माना जाता है। 25 दिसंबर की रात 8 बजे से ही सूतक काल शुरू हो जाएगा, जो ग्रहण के मोक्ष के बाद समाप्त होगा। इसके बाद घर में और मंदिरों में साफ-सफाई करने की और पवित्र नदियों में स्नान करने की परंपरा है।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

उड़ी सेक्टर में सूबेदार की शहादत के बाद भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई, 2 पाकिस्तानी सैनिक मारे गए

कोहली को दशक के टॉप-5 खिलाड़ियों में जगह, 5 साल में 21 शतक और 13 अर्धशतक लगाए