in ,

45 साल की महिला ने सिंगर अनुराधा पौडवाल को अपनी मां बताया, कोर्ट केस कर 50 करोड़ का हर्जाना मांगा

  • कोर्ट ने 27 जनवरी को अनुराधा पौडवाल और उनके बच्चों को हाजिर रहने को कहा
  • महिला के मुताबिक, पालक पिता ने मरने से पहले उसे इस सच्चाई के बारे में बताया
  • दावा है कि सिंगर ने महिला को तब खुद से अलग कर दिया, जब वह 4 दिन की थी

तिरुवनंतपुरम (केरल) की रहने वाली 45 वर्षीय करमाला मोडेक्स ने बॉलीवुड की दिग्गज सिंगर अनुराधा पौडवाल को अपनी मां बताया है। उन्होंने जिला फैमिली अदालत में 67 साल की सिंगर के खिलाफ केस दायर किया है, जिसमें 50 करोड़ रुपए का हर्जाना मांगा गया। करमाला की याचिका के मुताबिक, तब वे बमुश्किल 4 दिन की थीं, जब सिंगर ने उन्हें पालक माता-पिता पोंनाचन और अगनेस को सौंप दिया था। महिला ने कहा कि अनुराधा पौडवाल ने ऐसा इसलिए किया, क्योंकि वे उस समय प्लेबैक सिंगिंग में व्यस्त थीं और बच्चे की जिम्मेदारी नहीं उठाना चाहती थीं। करमाला के वकील अनिल प्रसाद ने कहा कि करमाला जिस बचपन और जिंदगी की हकदार थीं, उन्हें उससे वंचित रखा गया। अगर पौडवाल दावे को खारिज करती हैं तो हम कोर्ट से डीएनए टेस्ट कराने की मांग करेंगे। 

पद्मश्री और नेशनल अवॉर्ड से सम्मानित अनुराधा पौडवाल ने लगभग 4 दशक तक बॉलीवुड गाने और भजन गाए हैं। उन्होंने म्यूजिक कंपोजर अरुण पौडवाल से शादी की और उनके दो बच्चे आदित्य और कविता हैं।

महिला का दावा- अनुराधा के दोस्त थे पिता

करमाला ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कहा, “करीब 5 साल पहले मेरे पालक पिता ने मरने से पहले सच्चाई बताई। उन्होंने कहा कि मेरी बायलॉजिकल मां अनुराधा पौडवाल हैं। मुझे बताया कि मैं उस वक्त 4 दिन की थी, जब उन्होंने मुझे अपने पालक पैरेंट्स को सौंप दिया था। पोंनाचन आर्मी में थे और महाराष्ट्र में पदस्थ थे। वे अनुराधा के दोस्त भी थे। बाद में उनका ट्रांसफर केरल हो गया।”

करमाला के मुताबिक, इस सच्चाई के बारे में उनकी पालक मां अगनेस भी नहीं जानती थीं। पोंनाचन और अगनेस के तीन बेटे हैं। उन्होंने करमाला को अपनी चौथी संतान के रूप में पाला। 82 साल की अगनेस फिलहाल बिस्तर पर हैं और अल्जाइमर से पीड़ित हैं।

“फोन पर संपर्क करने की कोशिश की, जवाब नहीं आया”

तीन बच्चों की मां करमाला का कहना है कि पिता द्वारा सच्चाई बताए जाने के बाद उन्होंने सिंगर से कई बार फोन पर संपर्क करने की कोशिश की। लेकिन, उन्हें कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला। कुछ समय बाद उनका नंबर भी ब्लॉक कर दिया गया। करमाला ने कहा कि हमने इस मुद्दे पर अब कानूनी तौर पर निपटने का फैसला कर लिया है। वे मेरी मां हैं और मैं उन्हें वापस पाना चाहती हूं।

करमाला के वकील अनिल प्रसाद के मुताबिक, तिरुवंतपुरम के फैमिली कोर्ट ने अनुराधा और उनके बच्चों को 27 जनवरी की सुनवाई के दौरान मौजूद रहने के लिए कहा है

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

सीएए का विरोध करने पर गिरफ्तार 14 महीने की बच्ची की मां 14 दिन बाद रिहा, कहा- पुलिस पर ऊपर से प्रेशर था

बंगाल की झांकी नामंजूर, तृणमूल का आरोप- सीएए पर विरोध के कारण केंद्र ने हमसे भेदभाव किया