in

प्रवासी भारतीय केंद्र का बदलेगा नाम, सुषमा स्वराज भवन के नाम से जाना जाएगा

14 फरवरी को पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का जन्मदिन है। इस मौके पर विदेश मंत्रालय ने प्रवासी भारतीय केंद्र का नाम बदलकर सुषमा स्वराज भवन और विदेश सेवा संस्थान का नाम बदलकर सुषमा स्वराज इंस्टिट्यूट ऑफ फॉरेन सर्विस करने का फैसला किया है।

भारत की पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के अमूल्य योगदान के लिए विदेश मंत्रालय ने 14 फरवरी को उनकी जयंती की पूर्व संध्या पर इसकी घोषणा की है। इससे पहले पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को गणतंत्र दिवस के मौके पर पद्म विभूषण सम्मान से नवाजा गया था।

सुषमा स्‍वराज का छह अगस्‍त 2019 को 67 वर्ष की उम्र में निधन हो गया था। रात को घर पर उन्‍हें दिल का दौरा पड़ा फिर उन्‍हें दिल्ली के ही एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उन्‍होंने इस दुनिया का अलविदा कहा। 2018 में ही सुषमा स्‍वराज ने कहा था कि वह अब चुनाव नहीं लड़ना चाहती हैं।

विदेश मंत्री के तौर पर सुषमा स्वराज विदेशों में भी काफी लोकप्रिय थीं। उनके कार्यकाल के दौरान जिसने भी मदद मांगी, उसे उनकी मदद जरूर मिलती थी। चाहे वीजा को लेकर गुहार लगाई गई हो या फिर अन्य कोई मदद की दरकार।

Report

What do you think?

Written by Bhanu Pratap

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

सुरेश रैना ने कहा- टीम इंडिया की तस्वीर बदलने वाले MS Dhoni हैं भारत के सर्वश्रेष्ठ कप्तान

पुलवामा हमला: दिल दहला देने वाला था वहां का नजारा, हर तरफ फैला था खून और मांस के टुकड़े