in

गणतंत्र दिवस के फ्लाइट परेड में पहली बार शामिल ‘चिनूक’ हेलीकॉप्टर की जानें खासियत

गणतंत्र दिवस की परेड में इस चिनूक (Chinook) और अपाचे (Apache) हेलीकॉप्टर आकर्षण का मुख्य केंद्र थे। ये दोनों हेलीकॉप्टर पहली बार फ्लाईपास्ट में हिस्सा लिए। अमेरिका में बना ‘चिनूक’ हेलीकॉप्टर को पिछले साल यानी मार्च 2019 में वायुसेना में शामिल किया गया था। भारतीय वायुसेना के पास इस समय 4 ‘चिनूक’ हेलीकॉप्टर हैं।

‘चिनूक’ हेलीकॉप्टर की खासियत

  • चिनूक में 11 टन पेलोड और 45 सैनिकों का भार वहन करने की अधिकतम क्षमता है। हेलीकॉप्टर चिनूक 315 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भर सकता है।
  • दो इंजन और टैंडेम रोटर वाले ‘चिनूक’ हेलीकॉप्टर सैनिकों, विस्फोटक सामग्री, हथियार और ईंधन लाने ले जाने में सक्षम हैं ये हेलीकॉप्टर न केवल दिन में बल्कि रात में भी सैन्य अभियान चला सकते हैं। 
  • यह हेलीकॉप्टर अपनी श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ में से एक है। हर मौसम में उड़ान की क्षमता के कारण यह हेलीकॉप्टर मानवीय एवं आपदा राहत अभियानों और राहत आपूर्ति लाने ले जाने एवं बड़े स्तर पर शरणार्थियों के विस्थापन जैसे मिशनों में इस्तेमाल हो सकता है। 

Report

What do you think?

Written by Bhanu Pratap

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

VIDEO: शाहीन बाग और अलीगढ़ में JNU के छात्र शरजिल इमाम ने दिया देश तोड़ने वाला बयान, मामला दर्ज

पाकिस्तान का यू-टर्न, कहा- T20 विश्व कप से हटने का सवाल ही नहीं उठता