in

महाराष्ट्र के आईपीएस अफसर ने इमरजेंसी पास जारी कर वाधवान फैमिली के 23 लोगों को फार्महाउस भिजवाया

कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन के बीच महाराष्ट्र सरकार के शीर्ष अधिकारी की ओर से लापरवाही का मामला सामने आया है। यहां गृह विभाग के प्रधान सचिव (विशेष) के तौर पर पदस्थ आईपीएस अधिकारी अमिताभ गुप्ता ने डीएचएफएल के प्रमोटर कपिल और धीरज वाधवान के परिवार के लिए इमरजेंसी पास जारी किया। इसी पास के आधार पर वाधवान फैमिली के 23 लोग बुधवार को 5 गाड़ियों में सवार होकर खंडाला से महाबलेश्वर स्थित अपने फार्महाउस पहुंच गए। उनके साथ गार्ड और रसोइए भी गए हैं। लापरवाही के मामले में आईपीएस गुप्ता को अनिवार्य छुट्टी पर भेजा गया है। वाधवान परिवार एक बिल्डिंग में क्वारैंटाइन है।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने इस मामले में जांच की मांग की थी। इसके अलावा भाजपा नेता किरीट सोमैया ने गुप्ता की ओर से जारी लेटर की कॉपी ट्वीट करते हुए लिखा- उद्धव ठाकरे सरकार वाधवान परिवार को वीवीआईपी ट्रीटमेंट दे रही है।

इसके बाद गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि वाधवान परिवार के 23 सदस्य महाबलेश्वर कैसे पहुंचे इसकी जांच होगी। उन्होंने ट्वीट किया, ‘मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ चर्चा के बाद प्रधान सचिव गुप्ता को उनके खिलाफ जांच जारी रहने तक अवकाश पर भेजा गया है। कानून सभी के लिए समान है।’

आईपीएस गुप्ता ने लेटर में क्या लिखा था?

अमिताभ गुप्ता ने आधिकारिक पत्र में लिखा, ‘निम्न लिखित (व्यक्ति) को मैं अच्छी तरह से जानता हूं क्योंकि वे मेरे पारिवारिक मित्र हैं और परिवार में इमरजेंसी के कारण वह पुणे के खंडाला से सतारा के महाबलेश्वर तक की यात्रा कर रहे हैं। इन्हें गंतव्य तक पहुंचने में सहयोग किया जाए।’ इस पत्र में वाधवान परिवार के 5 वाहनों की डिटेल भी दी गई थी। हालांकि उनके इस कदम से मुख्यमंत्री ठाकरे नाराज हो गए, क्योंकि सरकार सभी लोगों को घर में रहने की सलाह दे रही है।

सभी लोग क्वारैंटाइन, सीबीआई-ईडी अलर्ट

  • सतारा पुलिस ने कपिल वाधवान और उनके परिवार के 22 लोगों के खिलाफ लॉकडाउन के नियम तोड़ने पर केस दर्ज किया है। गुरुवार रात सभी को दीवान फार्महाउस से हिरासत में लेकर एक बिल्डिंग में क्वारैंटाइन किया गया है। जहां इनकी स्क्रीनिंग कराई गई।
  • दूसरी ओर, कपिल और धीरज वाधवान के खिलाफ सीबीआई ने लुकआउट नोटिस जारी किया था। दोनों यस बैंक और डीएचएफएल धोखाधड़ी के मामले में आरोपी हैं। पिछले महीने कोरोना का हवाला देकर दोनों ईडी के सामने पेश नहीं हुए। अब सीबीआई और ईडी पुलिस के संपर्क में हैं।

कोरोना का सबसे ज्यादा कहर महाराष्ट्र में 
महाराष्ट्र में संक्रमण के अब तक 1380 पॉजिटिव केस सामने आ चुके है, वहीं 97 की मौत हो चुकी है। देशभर में मौत और संक्रमण के अब तक सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र में है। गुरुवार को ही राज्य में सबसे ज्यादा 229 नए केस सामने आए, जिसमें सबसे ज्यादा 79 केस मुंबई (बीएमसी क्षेत्र) के हैं।

Report

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन ICU से आए बाहर, डोनाल्ड ट्रंप बोले- Get well Boris

सरकार ने वेंटिलेटर, कोरोना टेस्टिंग किट और मास्क से एक्साइज ड्यूटी 30 सितंबर तक हटाई, कीमतें कम होंगी