in

कोरोना से बचाव के लिए मध्यप्रदेश सरकार ने लॉन्च की इम्युनिटी बूस्टर साड़ियां, जानें कैसे की गई तैयार.

मध्य प्रदेश में कोरोना से बचाव के लिए इम्युनिटी बढ़ाने का एक और विकल्प सामने आया है, जिसे सुनकर अटपटा जरूर लगेगा, लेकिन ये रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में कारगर है। मध्यप्रदेश सरकार ने अब इम्युनिटी बूस्टर साड़ियां लॉन्च की गई हैं, जो महिलाओं को वायरस और बैक्टेरिया से बचाने में मदद साबित होगी।

देश में कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों पर रोक लगाने और बचाव के लिए डॉक्टर्स इम्युनिटी बढ़ाने की बात कर रहे हैं। वहीं इन सबके बीच मध्य प्रदेश में कोरोना से बचाव के लिए इम्युनिटी बढ़ाने का एक और विकल्प सामने आया है, जिसे सुनकर अटपटा जरूर लगेगा लेकिन ये रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में कारगर है। मध्यप्रदेश सरकार ने अब इम्युनिटी बूस्टर साड़ियां लॉन्च की गई हैं, जो महिलाओं को वायरस और बैक्टेरिया से बचाने में मदद साबित होगी। आपको बता दें कि यूपी में भी कोरोना से बचने के लिए इसी तरह का इम्युनिटी बूस्टर कार्ड लॉन्च किया जा चुका है।

आयुर्वस्त्र दिया गया नाम, खास मसालों का होता है उपयोग

मध्यप्रदेश में कोरोना से बचाव के लिए हर्बल साड़ियां और इम्युनिटी बूस्टर साड़ियां तैयार की जा रही हैं, इन्हें आयुर्वस्त्र का नाम दिया गया है। इन साड़ियों को तैयार करने का तरीका भी खास ही है। इन्हें बनाने के लिए कई तरह के मसालों का इस्तेमाल किया जाता है। इनमें गर्म रहने वाले मसाले जैसे तेज पत्ता, लौंग, बड़ी इलायची, चक्रफूल, जावित्री, दालचीनी, काली मिर्च, शाही जीरा, छोटी इलायची आदि मसालों का उपयोग किया जाता हैं। इन साड़ियों पर करीब 2 महीने ट्रायल किया गया। इसके बाद सटीक हल निकलने पर इन मसालों का मिश्रण तैयार किया गया और फिर जाकर आयुर्वस्त्रों को तैयार किया गया।

5 से 6 दिन का समय लगता है एक साड़ी बनने में

इन मसालों को कूट कर बारीक पीसा जाता है और 48 घंटे से ज्यादा समय तक मसाले की पोटली को पानी में रखकर एक भट्टी पर इस औषधि युक्त पानी की भाप से वस्त्र बनाने वाले कपड़े को घंटों तक ट्रीट किया जाता है। इस दौरान साड़ियां को तैयार करने में कई सावधानियां बरती जाती हैं, तब जाकर ये साड़ियां इस्तेमाल के लिये तैयार होती हैं. ऐसे में एक साड़ी बनने में करीब 5 से 6 दिन का समय लगता है।

इम्युनिटी पावर का असर 4 से 5 धुलाई तक ही रहता है असर

जब इन साड़ियों को पहना जाएगा तो आपकी इम्युनिटी तो बढ़ती है लेकिन ऐसा नहीं है कि ये सदैव ऐसी ही रहेंगी। कई तरह के मसालों से ट्रीट की गई इन साड़ियों का असर 4 से 5 धुलाई तक ही रहता है. इसलिए खरीददार को सलाह दी जाती है कि वो इनकी धुलाई के लिए कम से कम कैमिकल युक्त पावडर का इस्तेमाल करें ताकि असर ज्यादा दिनों तक बना रहे।

यहां मिल रही साड़ियां

इन साड़ियों की कीमत 3 से 5 हजार रुपए के बीच तक आती है। अभी ये साड़ियां केवल भोपाल और इंदौर के मृगनयनी स्टोर्स पर ही मिल रही हैं, लेकिन जल्द ही देश के अन्य राज्यों में स्थित एमपी के मृगनयनी स्टोर्स पर भी उपलब्ध हो सकेंगी।

Report

What do you think?

Written by Bhanu Pratap

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

समुद्र के रास्ते अंडमान पहुंचा ऑप्टिकल फाइबर केबल, स्थानीय लोगों को मिलेगा फायदा.

बिहार चुनाव में नहीं दिखेंगी वोटर्स की कतारें, मतदाताओं को मिलेंगे मास्क-दस्ताने, जानें मतदान पर EC की गाइडलाइंस.