in

सोन पहाड़ी पर 711 ईस्वी से जुड़े स्वर्ण भंडार का किस्सा, राजा बलशाह ने कोने-कोने में छिपाया था सौ मन सोना

उत्तर प्रदेश का सोनभद्र जिला आजकल चर्चा में हैं। दो दिन पहले यहां पर करीब 3000 टन सोने की खदान मिलने की खबर सुर्खियों में थी। हालांकि, बाद में जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (जीएसआई) ने तीन हजार टन सोना मिलने की बात को खारिज कर दिया। जीएसआई ने स्पष्ट किया कि 3000 टन स्वर्ण अयस्क मिलने की बात कही गई है, इससे अनुमानित तौर पर 160 किलो सोना ही निकलेगा।

हालांकि, जिस सोन पहाड़ी पर सोना होने की अफवाह उड़ी, उसके अतीत में जाना जरूरी है। सोनभद्र जिले में ‘सौ मन सोना, कोना-कोना’ की कहावत बहुत प्रचलित है और इस कहावत का सीधा संबंध सोन पहाड़ी और अगोरी किला से है। सामाजिक कार्यकर्ता रामेश्वर गोंड व पर्यावरण कार्यकर्ता जगत नारायण विश्वकर्मा ने सोन पहाड़ी को लेकर यहां प्रचलित मान्यताओं के बारे में जानकारी दी। एक रिपोर्ट- 

711 ईस्वी से जुड़ा है सोने का राज
जिले के चोपन के अगोरी गांव के जंगल में आदिवासी राजा बलशाह का ‘अगोरी किला’ आज भी जीर्ण-शीर्ण हालत में मौजूद है। यहां के आदिवासियों में किंवदंती है कि 711 ईस्वी में यहां राजा बलशाह का शासन था, जिस पर चंदेल शासकों ने हमला कर दिया था। इस हमले में पराजित राजा बलशाह अपने खजाने का एक सौ मन (4000 किलोग्राम) सोना लेकर सैनिकों सहित किला छोड़कर गुप्त रास्ते से किले से महज सात किमी. दूर रेणु नदी से लगे पनारी के जंगलों में छिप गए और इस पहाड़ी के कोने-कोने में उस खजाने को छिपा दिया था और खुद भी छिप गए थे। आदिवासी राजा द्वारा इस पहाड़ी के कोने-कोने में सोना छिपाने की वजह से ही इसे ‘सोन पहाड़ी’ कहा जाने लगा और तभी से ‘सौ मन सोना, कोना-कोना’ की कहावत भी प्रचलित हुई।


रानी जुरही के नाम पर जुरही देवी मंदिर मौजूद
आदिवासी समाज से ताल्लुक रखने वाले सामाजिक कार्यकर्ता रामेश्वर गोंड बताते हैं कि जब चंदेल शासक को राजा बलशाह के खजाना समेत इस पहाड़ी में छिपे होने की सूचना मिली तो उसकी सेना ने यहां भी धावा बोल दिया। लेकिन तब तक एक खोह (गुफा) में छिपे राजा बलशाह को जंगली जानवर खा चुके थे और उनकी पत्नी रानी जुरही को चंदेल शासक ने पकड़कर जुगैल गांव के जंगल में ले जाकर हत्या कर दी थी। जुगैल जंगल में आज भी रानी जुरही के नाम का ‘जुरही देवी मंदिर’ मौजूद है।

गोंड बताते हैं कि उसी दौरान खरवार जाति के एक व्यक्ति को राजा बल शाह का युद्ध कवच और तलवार गुफा से मिली थी। तलवार तो किसी को बेच दी गई, लेकिन अब भी उनका कवच एक खरवार व्यक्ति के घर में मौजूद है। माना जा रहा है कि राजा बल शाह का खजाना आज भी सोन पहाड़ी में छिपा है।

किले को सहेजने की जरूरत
स्थानीय पत्रकार और पर्यावरण कार्यकर्ता जगत नारायण विश्वकर्मा बताते हैं कि आदिवासी राजा बलशाह के अगोरी किला में अब चंदेलवंशी राजा के वंशज राजा आभूषण ब्रह्म शाह का कब्जा है, जो सोनभद्र जिले के राजपुर में रहते हैं। वह बताते हैं कि खजाने के लालच में चरवाहों ने अगोरी किले को खुर्द-बुर्द कर दिया है। पुरातत्व विभाग ने भी किले को संरक्षण में लेने की जरूरत नहीं समझी।

Report

What do you think?

Written by Bhanu Pratap

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

एक दिन के नवजात को नाली में फेंका, 6 बच्चों की मां ने मासूम की जान बचाई

दौरे का पहला दिन / 3 घंटे में मोदी-ट्रम्प 7 बार गले मिले, 9 बार हाथ मिलाया; ट्रम्प ने भाषण में 50 बार इंडिया और मोदी ने 29 बार अमेरिका बोला