in , , ,

क्या वजह है किसानो द्वारा जेवर एयरपोर्ट SDM पर किये गये पथराव की

Gunja Singh SDM JEWAR AIRPORT

उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर जिले में जेवर नामक एक इलाका है जहां अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा बनने जा रहा है। जिसे “जेवर एयरपोर्ट या नोएडा इंटरनेशनल ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट “के नाम से जाना जा रहा है। हाल ही की खबर से हमे ये जानने को मिला है कि जेवर SDM ( गुंजा सिंह) और पुलिस अधिकारियों पर जेवर के किसानो द्वारा पथराव हुआ। आखिर “वह कौनसी वजह है जिसने किसानो को पत्थरबाजी करने के लिये मजबूर कर दिया?” आइये यह जानने कि कोशिश करते है इस आर्टिकल से।

Image result for location of jewar airport

जेवर हवाई अड्डा

यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (YEIDA) उत्तर प्रदेश राज्य सरकार की ओर से कार्यान्वयन एजेंसी होगी।

Image result for jewar airport matter

हवाई अड्डे को एक पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल (PPP) पर विकसित किया जाना है। इस एअरपोर्ट को 7200 एकड़ की जमीन पर बनाया जायेगा, जिसमे कुल 6-रनवे बनेगे। प्रस्तावित योजना में 2022-23 तक दो रनवे हवाई अड्डे का निर्माण करना है।

सोमवार को हुई घटना

सोमवार(27 जनवरी, 2020) को जिला प्रशासन ने जेवर एयरपोर्ट की जमीन पर कब्जा लेने की घोषणा की थी। इसके लिए  सोमवार की दोपहर रोही गांव में जिलाधिकारी  को बैठक करने जाना था। रोही और दयानतपुर गांव की 18 हेक्टेयर जमीन बाकी थी। इन्हीं का अधिग्रहण करने के लिए  जेवर की एसडीएम गुंजा सिंह, तहसीलदार (दुर्गेश सिंह) और अन्य प्रशासनिक अधिकारी रोही गांव में गई थी। जमीन अधिग्रहण करने के लिए रोही गांव में जिला प्रशासन ने कैंप लगाया था। कैंप में जिला प्रशासन एंव पुलिस के अधिकारी किसानों से  बातचीत कर रहे थे और अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी की जा रही थी, उसी बीच कुछ किसान वहां पर पहुंच गए और उन्होंने अधिकारियों पर पथराव कर दिया।

खैर, बाद में गांव के बाकी लोग भी वहां पहुंचे। किसी तरह मामले को शांत किया गया और रोही-दयानतपुर गांव की 18 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण कर लिया गया। ये एयरपोर्ट निर्माण के पहले चरण के तहत किए जाने वाले जमीन अधिग्रहण का आखिरी हिस्सा था।

Image result for gunja singh sdm jewar

डीसीपी ने बताया कि इस हमले में एसडीएम (जेवर) गुंजा सिंह, उनके ड्राइवर भारत शर्मा, सब इंस्पेक्टर चंद्र प्रकाश शर्मा, कांस्टेबल अर्जुन सिंह, कांस्टेबल राहुल राणा, कांस्टेबल राशिद सहित आधा दर्जन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। इस दौरान किसानों ने जिला प्रशासन, पुलिस एवं बैंक के कर्मचारियों की गाड़ियों में तोड़फोड़ भी की।

Image result for gunja singh sdm jewar

इस मामले में जेवर के तहसीलदार दुर्गेश सिंह ने जेवर थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। जेवर पुलिस ने मंगलवार (28 जनवरी, 2020) को एक आरोपी (रवि शर्मा) को गिरफ्तार कर लिया जबकि 50 से ज्यादा लोग अभी भी फरार हैं।

सरकार द्वारा निर्धारित मुआवजा

जमीन अधिग्रहण एक्ट, 2013 के मुताबिक, अगर सरकार किसी काम से लोगों की जमीन लेती है, तो सर्कल रेट से ज्यादा पैसे मुआवजे के तौर पर दिए जाते हैं। शहरी इलाके की जमीन के लिए सर्कल रेट से दोगुना पैसा दिया जाता। ग्रामीण इलाके की जमीन के लिए सर्कल रेट से चार गुना ज्यादा रकम दी जाती है।

“किसान के परिवार में जो भी व्यक्ति 18 साल से ज्यादा उम्र का है, उसे भी साढ़े पांच लाख रुपए दिए जाएंगे या फिर उन्हें जेवर एयरपोर्ट में शिक्षा के मुताबिक नौकरी दी जाएगी”। नौकरी या साढ़े पांच लाख रुपए, इनमें से कोई एक ही मिलेगा।

क्या है कारण?

किसानो का कहना है कि 7 साल से जमीन का दाम 900 रुपए प्रति मीटर वर्ग ही चला आ रहा है। अगर इसे अपडेट करते रहते, तो आज इसका दाम 1400 रुपए प्रति मीटर वर्ग होता। सरकार ग्रामीण इलाके की जमीन ले रही है, लेकिन इसे ग्रामीण इलाका माना ही नहीं जा रहा है। अगर मानते तो जमीन के सर्कल रेट का चार गुना मुआवजा मिलता।  अगर हर साल सर्कल रेट अपडेट होते और सरकार चार गुना मुआवजा देती, तो किसानों को 5600 रुपए प्रति मीटर वर्ग के हिसाब से मुआवजा मिलता, जो कि सही दाम था। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। न तो सर्कल रेट अपडेट हुए और न ही सरकार ने जमीन को ग्रामीण इलाके का माना। जबकि इस इलाके में शहर जैसा कुछ भी नहीं है।

Image result for jewar

अगर सरकार शहरी इलाके के हिसाब से भी मुआवजा दे रही है, तो दोगुना मुआवजा मिलना चाहिए था, जो कि 2800 रुपए प्रति वर्ग मीटर होता, लेकिन ऐसा नहीं किया क्योंकि सर्कल रेट अपडेटेड नहीं था। सरकार 2481 रुपए प्रति मीटर वर्ग के हिसाब से पैसे दे रही है। किसान चाहते हैं कि सरकार 4900 रुपए प्रति मीटर वर्ग के हिसाब से मुआवजा दे। किसानो के  हरे-भरे खेत जा रहे हैं और उन्हें  इसका सही मुआवजा भी नहीं मिल रहा।

Report

What do you think?

Written by Pooja Patidar

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

नीतीश को झूठा कहने के 20 घंटे बाद प्रशांत किशोर जदयू से बर्खास्त, कार्रवाई के 5 मिनट बाद पीके का ट्वीट- भगवान आपका भला करे

रुपए पैसे से बड़ा होता है इंसानियत का जज्बा, फल बेचने वाले हजब्बा को मिला पद्मश्री सम्मान